‘यास’ ने मचाई बंगाल और ओडिशा में तबाही

बचे हुए लोगो की शिकायत पर मुंबई से डूबे बर्ज के कैप्टन के खिलाफ FIR
Share

कोलकाता/ भुवनेश्वर (एजेंसी)। समुद्री तूफान यास की वजह से बंगाल और ओडिशा में काफी नुकसान हुआ है। यहां तूफान की वजह से बुधवार को 130-145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल रही है। बारिश और घरों के टूटने की वजह से चार लोगों की मौत हो गई। इनमें तीन ओडिशा और एक बंगाल से है। यास ने 5 राज्यों के मौसम पर सीधा असर डाला। ओडिशा और बंगाल के कई जिलों में तेज बारिश हुई। दोनों राज्यों के करीब 12 लाख लोगों को अपना घर छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा। हवा की रफ्तार 140 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच गई। इससे कई कच्चे मकानों की छत उड़ गई। पेड़ गिरने से कई घर तहस-नहस हो गए।

तूफान के कुछ घंटों में कमजोर पडऩे का अनुमान है। उधर, कोलकाता के नेताजी सुभाष चंद्र बोस एयरपोर्ट पर शाम 6.30 बजे से उड़ानें दोबारा शुरू हो गईं। यह एयरपोर्ट तूफान की वजह बंद कर दिया गया था।

यास तूफान ने बुधवार को भारत के पूर्वी तटों पर दस्तक दी। बंगाल के जलपाईगुड़ी में दोपहर के वक्त पहुंचा और इसी दौरान 3.8 तीव्रता का भूकंप भी रिकॉर्ड किया गया। इसके बाद यास ओडिशा पहुंचा, जहां भारी बारिश और तेज हवाएं चलने लगीं। इससे पहले 1 लाख लोगों को वहां से सुरक्षित जगहों पर शिफ्ट किया गया है। करीब 140 किमी/घंटे की रफ्तार वाली हवाओं के चलते पेड़ उखड़ गए और कुछ मकानों को नुकसान पहुंचा। बालासोर के तट पर समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही हैं। कई कॉलोनियों में पानी भर गया है। हालांकि, राज्य आपदा प्रबंधन विभाग ने बताया कि बिजली की सप्लाई को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा है। अब यास की वजह से झारखंड और बिहार में भी भारी बारिश हो रही है। बंगाल और ओडिशा के अलावा बिहार, झारखंड, तमिलनाडु और कर्नाटक में भी तूफान का असर है।

बंगाल में 3 लाख घर उजड़े, 1 करोड़ लोग प्रभावित

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि तूफान के कारण मंदारमनी में केवल एक व्यक्ति के मारे जाने की खबर है। ममता के अनुसार बंगाल में कुल मिलाकर यह तूफान से लगभग 1 करोड़ से ज्यादा लोग प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। बंगाल में विशेषकर पूर्व मेदिनीपुर जिले के दीघा, शंकरपुर, मंदारमनी दक्षिण 24 परगना जिले के बाद बकखाली, संदेशखाली, सागर, फ्रेजरगंज, सुंदरबन आदि जगहों से लेकर पूरे बंगाल में 3 लाख लोगों के घर इस तूफान से उजड़ गए हैं। 134 बांध टूट गए हैं, जिन्हें ठीक करवाया जा रहा है। ममता 28 और 29 मई को हेलिकॉप्टर द्वारा तूफान प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगी।


Share