अयोध्या में लगेगी विश्व की सबसे ऊंची (251 मीटर) राम की प्रतिमा

World's tallest (251 m) Ram statue to be installed in Ayodhya
Share

सुतार प्रा.लि. कम्पनी करेगी मूर्ति का निर्माण, मूर्ति का बेस 51 मीटर का होगा जिसमें मंदिर और म्यूजियम होगा

अयोध्या (एजेंसी)। भगवान राम की नगरी में बीजेपी की डबल इंजन की सरकार लगातार विकास के कार्य कर रही है। राम नगरी को उसकी गरिमा के अनुरूप विकसित कर सजाया जा रहा है। इसी कड़ी में अब मंदिर निर्माण के बाद विश्व की सबसे ऊंची भगवान राम की मूर्ति की स्थापना अयोध्या में की जाएगी। इस मूर्ति के निर्माण की जिम्मेदारी पद्मश्री पुरस्कार से पुरस्कृत सुतार प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को दी गई है। मूर्ति का स्वरूप राजा राम के तौर पर होगा, जिसके सिर विशाल छत्र, बाएं हाथ में धनुष और दाहिने हाथ में तीर होगी। इसके अलावा मूर्ति का बेस 51 मीटर का होगा, जिसमें म्यूजियम और मंदिर की स्थापना की जाएगी। यह मूर्ति विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति होगी, जिसे स्टेचू ऑफ यूनिटी बनाने वाली संस्था सुतार प्राइवेट लिमिटेड के द्वारा बनाया जाएगा। इसका डिजाइन नवंबर 2018 में ही कंपनी को दे दिया गया है और राम मंदिर निर्माण के बाद चिन्हित की गयी जमीन पर मूर्ति का निर्माण किया जायेगा।

राम मंदिर के साथ रामलला की जन्मस्थली को उसकी गरिमा के अनुरूप विश्व के मानचित्र पर स्थापित करने का प्रयास भाजपा की डबल इंजन सरकार कर रही है। भगवान राम की नगरी में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन का बाहरी हिस्सा मंदिर के मॉडल पर होगा। राम नगरी आने वाले श्रद्धालु शहर में प्रवेश के साथ धर्म नगरी में होने का आभास करेंगे। शायद यही वजह है कि अयोध्या के राष्ट्रीय राजमार्गों पर भगवान रामलला की मूर्तियां लगाई गई हैं। अब इसी कड़ी में विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति की स्थापना मंदिर निर्माण के बाद अयोध्या में की जाएगी। इस मूर्ति की ऊंचाई 251 मीटर होगी।

मूर्ति के बेस में होगा मंदिर-म्यूजियम

लता मंगेशकर चौराहे पर लगी विशालकाय वीणा को बनाने वाले सुतार प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर अनिल सुतार ने बताया कि नवंबर 2018 में मूर्ति के स्वरूप को तय कर लिया गया था। मंदिर निर्माण के बाद मूर्ति के लिए जमीन अधिग्रहित किया जाएगा। उसके बाद निर्माण का कार्य शुरू किया जाएगा। अनिल सुतार ने बताया कि भगवान राम के विशालकाय मूर्ति का बायां पैर ऊंचाई पर होगा।

भगवान की मूर्ति के दाहिने हाथ में तीर तो बाएं हाथ में विशाल धनुष होगा। भगवान राम की मूर्ति के सिर पर एक विशाल छत्र भी लगाया जाएगा। सुतार ने बताया कि मूर्ति की ऊंचाई 251 मीटर होगी, जिसमें 51 मीटर बिल्डिंग की ऊंचाई होगी, जिसमें मंदिर का स्वरूप और म्यूजियम होगा। पर्यटकों के लिए मंदिर और म्यूजियम आकर्षण का केंद्र रहेगा और भगवान की मूर्ति 200 मीटर ऊंची होगी। कुल 251 मीटर ऊंची भगवान राम की प्रतिमा होगी जो राजाराम के स्वरूप में दिखेगी।


Share