वर्ल्ड चैंपियनशिप – सिडनी टेस्ट ड्रॉ होने से अब मुश्किल में भारत-ऑस्ट्रेलिया

वर्ल्ड चैंपियनशिप - सिडनी टेस्ट ड्रॉ होने से अब मुश्किल में भारत-ऑस्ट्रेलिया
Share

एक भी हार कर देगा फाइनल से बाहर

भारत इंग्लैंड व ऑस्ट्रेलिया द. अफ्रीका से खेलेगा अगली सीरीज

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरा टेस्ट ड्रॉ करा लिया। इसके साथ ही वल्र्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने की लड़ाई और रोमांचक हो गई है। चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला इसी साल जून में इंग्लैंड के लॉर्ड्स में खेला जाना है। न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और भारत फाइनल में पहुंचने के सबसे मजबूत दावेदार हैं।

वल्र्ड टेस्ट चैंपियनशिप में भारत की क्या स्थिति है?

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने वल्र्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के पॉइंट सिस्टम में बदलाव के बाद से भारत दूसरे नंबर पर बना हुआ है। भारत के इस वक्त 0.702 पर्सेंटेज प्वाइंट्स हैं। वहीं, ऑस्ट्रेलिया 0.738 पीसीटी के साथ टॉप पर है। न्यूजीलैंड 0.70 पीसीटी के साथ तीसरे नंबर पर है। टेस्ट चैंपियनशिप से जुड़ी सीरीज 31 मार्च तक होनी हैं।

न्यूजीलैंड की अब कोई सीरीज बाकी नहीं है। यानी, अब वो 0.70 पीसीटी पर ही रहेगा। भारत को पांच मैच और खेलने है। एक ऑस्ट्रेलिया सीरीज का आखिरी टेस्ट और बाकी चार मैचों की सीरीज इंग्लैंड के खिलाफ घर में। वहीं, ऑस्ट्रेलिया को भारत के बाद साउथ अफ्रीका से तीन मैचों की सीरीज खेलनी है। यानी, दोनों के पीसीटी में अभी बदलाव हो सकता है।

अगले टेस्ट के नतीजे से कितनी बदलेगी पीसीटी?

सबसे पहले अगर भारत अगला टेस्ट जीतता है तो : भारत अगर ब्रिसबेन टेस्ट जीत जाता है तो वो पीसीटी के आधार पर टेस्ट चैंपियनशिप रैंकिंग में टॉप पर आ जाएगा। भारत के पास कुल 0.717 पीसीटी होंगे। जबकि, ऑस्ट्रेलिया 0.692 पीसीटी के साथ तीसरे नंबर पर चला जाएगा। वहीं, न्यूजीलैंड 0.70 पीसीटी के साथ दूसरे नंबर पर आ जाएगा।

अब बात अगर मैच ड्रॉ होता है या भारत हारता है तो : भारत रैंकिंग में तीसरे नंबर पर चला जाएगा। वहीं, ऑस्ट्रेलिया टॉप पर रहेगा। जबकि, न्यूजीलैंड दूसरे नंबर पर आ जाएगा।

इंग्लैंड के खिलाफ भारत को कितने मैच जीतने जरूरी?

भारत अगर ऑस्ट्रेलिया से चौथा टेस्ट जीतता है तो इंग्लैंड के खिलाफ होने वाली सीरीज के चार में से उसे कम से कम तीन मैच जीतने होंगे। मैच ड्रॉ होने पर भारत को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के चार में से कम से कम तीन मैच में जीत और एक मैच ड्रॉ कराने की जरूरत होगी। मैच हारने की स्थिति में भारत को इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के चारों मैच जीतने होंगे। तभी वो न्यूजीलैंड से प्वाइंट टेबल में ऊपर रहेगा।

ऑस्ट्रेलिया की क्या स्थिति है और क्या बदल सकता है?

ऑस्ट्रेलिया अगर अगला टेस्ट हार जाता है तो उसके पास 0.692 पीसीटी हो जाएंगे। इसके बाद उसे तीन टेस्ट की सीरीज साउथ अफ्रीका से खेलनी है। इस स्थिति में उसे फाइनल में पहुंचने के लिए साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीनों टेस्ट जीतने ही होंगे। एक भी टेस्ट हारने पर उसकी जगह न्यूजीलैंड का फाइनल में पहुंचना पक्का हो जाएगा। और भारत की हार जीत के हिसाब से ऑस्ट्रेलिया की फाइनल में जगह तय होगी। यही स्थिति भारत पर भी लागू होती है।

और न्यूजीलैंड की स्थिति में क्या बदलाव आएंगे?

न्यूजीलैंड के हाथ में अब कुछ नहीं है। 31 मार्च तक टेस्ट चैंपियनशिप के मैच होने हैं। इस दौरान उसकी कोई सीरीज नहीं है। यानी, उसका पीसीटी 0.70 बना रहेगा। ऑस्ट्रेलिया और भारत कैसे खेलते हैं इस पर उसकी फाइनल में पहुंचने की स्थिति तय होगी।


Share