इफ्तार के बहाने बदलेगी बिहार की सियासत? राजद के इफ्तार में शामिल हुए नीतीश, तेजस्वी ने की अगवानी

Will the politics of Bihar change on the pretext of Iftar? Nitish attended RJD's Iftar, received by Tejashwi
Share

पटना (एजेंसी)। 5 साल बाद राष्ट्रीय जनता दल की तरफ से आयोजित इफ्तार पार्टी में सीएम नीतीश कुमार ने शामिल होकर सबको चौंका दिया। लालू यादव को बेल मिलने के बाद उनके इफ्तार में शामिल होने की खबर से बिहार में राजनीति तेज हो गई है। खास बात है कि मुख्यमंत्री अपने आवास के पिछले गेट से पैदल ही वहां पहुंचे। सीएम आवास और राबड़ी आवास के बीच की दूरी करीब 20 मीटर है। वहीं, इस घटना के बाद तेज प्रताप यादव का 12 दिन पहले का एक पोस्ट सामने आया है, जिसमें उन्होंने लिखा था- एंट्री नीतीश चाचा।

बता दें कि इससे पहले अंतिम बार 2017 में मकर संक्रांति के मौके पर नीतीश कुमार राबड़ी आवास गए थे। तब वह राजद के साथ मिलकर सरकार चला रहे थे। बाद में उन्होंने नाता तोड़कर भाजपा से हाथ मिला लिया था।  बताया जा रहा है कि इस बार के आयोजन की पूरी तैयारी तेजस्वी यादव और उनके बड़े भाई तेज प्रताप यादव ने मिलकर की। इसमें बिहार के समस्त जिलों से मुस्लिम समाज के लोगों और अन्य हस्तियों को भी आमंत्रित किया गया।

शाहनवाज हुसैन और चिराग पासवान भी पहुंचे

राबड़ी देवी के घर इफ्तार दावत में शिरकत करने के बाद बिहार सरकार में मंत्री शाहनवाज हुसैन ने कहा कि मैंने और सुशील मोदी ने इफ्तार दिया था, वहां भी नीतीश कुमार आए थे। यहां तेजस्वी यादव ने इफ्तार दिया है। हमें भी बुलाया गया था, हम आ गए। इसमें कोई राजनीतिक मामला निकालने की जरूरत नहीं है। वहीं, जब चिराग पासवान ये पूछा गया कि क्या राजनीति के नीतीश कुमार, चिराग पासवान और तेजस्वी यादव के एक साथ आने का समीकरण बन सकता है? उन्होंने जवाब दिया कि ऐसी कोई संभावना नहीं है। इफ्तार की दावत को राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में देखना बिल्कुल भी उचित नहीं है।


Share