सालाना 5 लाख तक का इलाज मुफ्त करवा सकेंगे

कोरोना वैक्सीनेशन के बारे में लोगों को निरन्तर जागरूक किया जाए: मुख्यमंत्री
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आयुष्मान भारत महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना के नए फेज का शनिवार को लोकार्पण किया। यह आयोजन मुख्यमंत्री पर हुआ। केंद्र सरकार की यह योजना 1 सितंबर 2019 से चल रही है। राज्य सरकार ने नए प्रावधानों के साथ इसे नया नाम देकर रि-लॉन्च किया है। योजना के तहत बीमा राशि बढ़ाई गई है। अब इलाज की सीमा 3.30 लाख सालाना से बढ़ाकर 5 लाख रूपए की गई है। सामान्य बीमारियों के लिए 50 हजार और गंभीर बीमारियों के लिए 4.50 लाख तक का मुफ्त इलाज उपलब्ध होगा। योजना के तहत सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ इससे अटैच निजी अस्पतालों में मुफ्त इलाज मिलेगा।

योजना में फ्रॉड रोकने के लिए एंटी फ्रॉड यूनिट बनाई

नई बीमा योजना में गड़बड़ी रोकने के लिए एंटी फ्रॉड यूनिट बनाई गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, हमने स्टडी करवाई थी, आज जो केंद्र की स्कीम चल रही है वह पहले आंध्रप्रदेश में चल रही थी। उसमें कई गड़बडियां थीं, इसलिए हमने उसे लागू नहीं किया। पहले भामाशाह योजना में भी खूब गड़बडिय़ां सामने आई थीं। एंटी फ्रॉड यूनिट कई स्तर पर निगाह रखेगी। योजना में दो साल पुराने अस्पतालों को ही इंपेनल किया गया है। जिला और राज्य स्तर की कमेटी मिलकर अस्पताल का चयन करने का प्रावधान किया है।

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत को मिलाकर तैयार की

राजस्थान में केंद्र की प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना लागू करने की जगह राजस्थान सरकार ने हाइब्रिड स्वास्थ्य बीमा योजना बनाई है। सीएम अशोक गहलोत ने दावा किया कि केंद्र की बीमा योजना अगर लागू करते तो सामाजिक आर्थिंक सर्वे 2011 में शामिल 60 लाख परिवार ही पात्र होते। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के पात्र 98 लाख परिवार हैं। राजस्थान सरकार ने केंद्र की योजना में पात्र लोगों के साथ खाद्य सुरक्षा के पात्र लोगों को भी स्वास्थ्य बीमा योजना में जोड़ा है। राजस्थान की स्वास्थ्य बीमा योजना में सामाजिक आर्थिक जनगणना और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना दोनों के पात्रों को शामिल किया है।


Share