अब आईपीएल कौन दिखाएगा- रिलायंस, सोनी या जी ?, अमेजन-गूगल रेस से बाहर; मीडिया राइट्स की नीलामी आज से – बीसीसीआई को मिलेंगे 50-60 हजार करोड़, आईपीएल मीडिया राइट्स के लिए रिलायंस, जी और सोनी में कड़ी टक्कर

अब आईपीएल कौन दिखाएगा- रिलायंस, सोनी या जी ?, अमेजन-गूगल रेस से बाहर; मीडिया राइट्स की नीलामी आज से - बीसीसीआई को मिलेंगे 50-60 हजार करोड़, आईपीएल मीडिया राइट्स के लिए रिलायंस, जी और सोनी में कड़ी टक्कर
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)।  रविवार को होने वाली आईपीएल मीडिया राइट्स नीलामी की जंग और रोचक हो गई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, नीलामी से पहले ही दुनिया के दूसरे सबसे अमीर आदमी जेफ बेजोस की कंपनी अमेजन रेस से हट गई है। साथ ही गूगल ने भी अपने हाथ वापस खींच लिए हैं। माना जा रहा है कि दो बड़ी कंपनियों के हटने से मुकेश अंबानी की रिलांयस का पलड़ा भारी हो गया है। अब आईपीएल मीडिया राइट्स हासिल करने की रेस में रिलायंस-वॉयकॉम 18, सोनी, जी और डिन्नी-हॉटस्टार के बीच कड़ी टक्कर है। माना जा रहा है कि आईपीएल 2023-2017 के मीडिया राइट्स की नीलामी से बीसीसीआई को 50 से 60 हजार करोड़ रूपए मिल सकते हैं।

अब तक आईपीएल के ब्रॉडकास्टिंग राइट्स डिज्नी-स्टार के पास थे, जिसने 2016-2022 के लिए 16 हजार करोड़ रू. ये ज्यादा में ये राइट्स हासिल किए थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 10 जून को बीसीसीआई को इंडिया के टीवी और डिजिटल राइट्स के लिए डिज्नी-स्टार, सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया, जी एंटरटेंमेंट इंटरप्राइजेज और वॉयकॉम 18 से टेक्निकल बिड मिली। वहीं रेस्ट ऑफ द वल्र्ड के टीवी और डिजिटल राइट्स के लिए टाइम्स इंटरनेट और फनएशिया से भी बोली मिली है। वहीं नीलामी में स्काई स्पोर्ट्स और सुपरस्पोर्ट्स जैसी कंपनियां भी बोली लगाएंगी।

वहीं जिन बड़ी कंपनियों ने नाम वापस लिए हैं, उनमें अमेजन, गूगल, एयरटेल और ड्रीम 11 शामिल हैं। अमेजन और गूगल ने टेंडर डॉक्यूमेंट्स लेने के बावजूद 10 जून को टेक्निकल बिड नहीं सौंपी। यानी ये दोनों नीलामी में हिस्सा नहीं लेंगे।

वहीं भारतीय ग्रुप रिलायंस और वॉयकॉम 18 बोधी ट्री के साथ डिजिटल राइट्स के लिए बोली लगाएगा। बोधी ट्री ने वॉयकॉम में 13 हजार करोड़ रूपए के निवेश का वादा किया है। बोधी ट्री एक इंवेस्टमेंट प्लेटफॉर्म है जिसमें मीडिया टायकून जेम्स मर्डोक के लुपा सिस्टम्स और स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ उदय शंकर की हिस्सेदारी है।

5 साल पहले उदय शंकर ने अपनी पुरानी कंपनी के लिए बेस प्राइस से 4 गुना ज्यादा पैसे में आईपीएल मीडिया राइट्स हासिल कर पूरे सिनैरियो को ही बदल दिया था। हालांकि, इस बार उदय शंकर विरोधी खेमे की कंपनी में हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और एमडी मुकेश अंबानी ने बोधी ट्री के साथ करार के बाद कहा था कि मर्डोक और उदय शंकर का ट्रैक रिकॉर्ड बेजोड़ है। 40 करोड़ से ज्यादा कस्टमर के साथ रिलायंस की जियो देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी है।

100 करोड़ के पार जा सकती है हर मैच की वैल्यू : बीसीसीआई ने 5 वर्षों  2023-2027 के लिए मीडिया राइट्स के लिए बेस प्राइस 32890 करोड़ रू. रखा गया है। इनमें टीवी राइट्स के लिए प्रति मैच बेस प्राइस 49 करोड़ रू., डिजिटल राइट्स के लिए प्रति मैच बेस प्राइस 33 करोड़  और नॉन एक्सक्लूसिव (18 मैचों) के लिए प्रति मैच बेस प्राइस 16 करोड़  और रेस्ट ऑफ द वल्र्ड के लिए प्रति मैच बेस प्राइस 3 करोड़  रखा गया है। यानी इस बार की नीलामी में प्रति मैच वैल्यू 100 करोड़ रू. के पार जा सकती है। ऐसा होने पर आईपीएल प्रति मैच वैल्यू के हिसाब से नेशनल फुटबॉल लीग के बाद दुनिया की दूसरी सबसे महंगी लीग बन जाएगी। 5 साल पहले हुई नीलामी में प्रति मैच वैल्यू 66 करोड़ रू. थे। 5 साल पहले स्टार ने वर्ष 2018-2022 के लिए आईपीएल मीडिया राइट्स को 16,347 करोड़ रू. में हासिल किया था।

बीसीसीआई कितने साल के लिए बेचेगा मीडिया राइट्स?

आईपीएल में बीसीसीआई और टीमों के लिए कमाई का सबसे बड़ा जरिया मीडिया राइट्स है। आईपीएल की कुल कमाई में से करीब 70′ हिस्सा इसी से आता है। आईपीएल की शुरूआत 2008 में हुई थी। इसके पहले मीडिया राइट्स सोनी ने 2017 तक, यानी 10 सीजन के लिए खरीदे थे। इसके लिए सोनी ने 8,200 करोड़ रूपए खर्च किए थे। 2018 में ये राइट्स फिर बिके और बीसीसीआई को इसके लिए लगभग दोगुनी कीमत मिली। स्टार स्पोर्ट्स ने 2018-2023 के लिए आईपीएल ब्रॉडकास्टिंग राइट्स को 16,347 करोड़ रूपए में खरीदा। अब 2023 से 2027 यानी 5 सालों के लिए फिर से आईपीएल ब्रॉडकास्टिंग राइट्स बिकने हैं।

नीलामी से बीसीसीआई को मिलेंगे 50-60 हजार करोड़ रूपए?

बीसीसीआई अधिकारियों के मुताबिक, इस बार सबसे बड़ी बोली के 45 हजार करोड़ से भी ऊपर जाने की उम्मीद है। वहीं ब्रोकरेज फर्म एलारा सिक्योरिटीज का मानना है कि इस बार 50 से 60 हजार करोड़ रू. तक की बोली लग सकती है।


Share