प. रेलवे ने लोड किए 744 टू पॉइंट डेस्टिनेशन वाले रेक

प. रेलवे ने लोड किए 744 टू पॉइंट डेस्टिनेशन वाले रेक
Share

अहमदाबाद (एजेंसी)। पश्चिम रेलवे ने लॉकडाउन के बावजूद इस वित्त वर्ष में अप्रैल से जुलाई तक 744 टू पॉइंट डेस्टिनेशन (दो गंतव्य) वाले रेक लोड किए जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 621 रेक लोड किए गए थे।
मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी सुमित ठाकुर ने मंगलवार को बताया कि प. रेलवे ने इस वित्त वर्ष में देशव्यापी लॉकडाउन और श्रमशक्ति की कमी के बावजूद अपनी लोङ्क्षडग में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की है। जुलाई 2020 आयरन और स्टील के 65 रेकों की श्रेष्ठ लोङ्क्षडग हासिल की। मिनी रेक की लोङ्क्षडग में भी भारी वृद्धि हुई है। अप्रैल से जुलाई 2020 तक चार महीनों में 249 रेक लोड किए गए हैं, जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में सिर्फ दो रेक लोड हुए थे।

प. रेलवे ने अक्टूबर 2019 में खोले गए मार्ग से ड्वार्फ डबल स्टैक कंटेनरों के 30 रेक लोड किये हैं जिनमें से 17 रेक इस वित्त वर्ष में लादे गए हैं। जुलाई 2020 में सबसे अधिक 6 रेकों का लोङ्क्षडग हुआ है। अप्रैल से जुलाई 2020 तक 744 टू पॉइंट डेस्टिनेशन वाले रेक लोड हुए, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 621 रेक लोड किए गए थे और 11 रेकों को दो मूल ङ्क्षबदुओं से एकल गंतव्य तक लोड किया गया था।

मालगाडिय़ों की गति को दोगुना करने के लक्ष्य के अनुरूप प. रेलवे ने जुलाई 2020 में 43 किमी / घंटा की गति प्राप्त की है जबकि पिछले वर्ष में यह गति 27 किमी / घंटा थी।

उन्होंने बताया कि हाल ही में नवस्थापित बीडीयू द्वारा चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स ट्रेड एंड इंडस्ट्रीज, राज्य सरकार के अधिकारियों और हैंडङ्क्षलग एजेंटों के 75 ग्राहकों के साथ कई बैठकें हुई हैं। प. रेलवे द्वारा ग्राहकों को आश्वासन दिया गया है कि जहां भी सम्भव है, बंगलादेश के लिए पार्सल विशेष ट्रेन में लोड करने की स्टैङ्क्षकग के लिए उदार अनुमति की तरह रियायतें दी जाएंगी। सम्भावित ग्राहकों ने भी अपने सुझाव दिए हैं और कुछ वस्तुओं को लोड करने में छूट मांगी है, जिसके लिए बेहतर व्यावसायिक सम्बंध विकसित करने पर विचार-विमर्श किया जा रहा है। इन नई पहलों से निश्चित रूप से राष्ट्र के आर्थिक और औद्योगिक विकास के नये द्वार प्रशस्त होंगे।


Share