गणतंत्र दिवस पर हिंसा थी खालिस्तानी साजिश?

जुगराज को 'निर्दोष' कहते हुए परिवार ने दावा किया कि उसे उकसाया गया
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। दिल्ली पुलिस ने गुरूवार को कहा कि खालिस्तान से जुड़े संगठन के अपलोड किए गए कुछ डॉक्युमेंट्स से पता चलता है कि 26 जनवरी के आसपास दिल्ली में हिंसा की सुनियोजित साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में देश के सौहार्द को नुकसान पहुंचाने, सरकार के खिलाफ नफरत फैलाने को लेकर केस दर्ज किया है। मशहूर पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने बुधवार को ट्वीट किए गए एक डॉक्युमेंट का हवाला देते हुए ये बातें कही, दिल्ली पुलिस सीधे-सीधे ग्रेटा का नाम लेने से बचती दिखी।

दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर प्रवीर रंजन ने मामले में कहा, दिल्ली पुलिस ने 300 सोशल मीडिया हैंडल्स की पहचान की है, जो नफरत का माहौल फैला रहे हैं। किसान आंदोलन के नाम पर ये कुछ खास मकसद से काम कर रहे हैं, भारत सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं। किसान नेताओं को भी ये बात बताई गई थी। दिल्ली पुलिस ने पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग का नाम लिए बिना कहा कि एक खास सोशल मीडिया अकाउंट से एक डॉक्युमेंट/टूल किट अपलोड किया गया था, यह टूल किट खालिस्तान से जुड़े एक संगठन ‘पोएटिक जस्टिस’ का है। हमने इसके खिलाउ केस दर्ज किया है।

स्पेशल कमिश्नर ने आगे कहा, एक सोशल मीडिया हैंडल से अपलोड गए इट टूल किट में किसान आंदोलन के नाम पर डिजिटल स्ट्राइक की बात कही गई है। 26 जनवरी को फिजिकल ऐक्शन, ट्वीट स्टॉर्म की बात कही गई है।

26 जनवरी और उसके आसपास के हिंसा को देखें तो इससे पता चलता है कि पूरे प्लान तरीके से इसी के अनुसार सबकुछ किया गया है। यह दिल्ली पुलिस के लिए चिंता की बात है।  स्पेशल कमिश्नर ने प्रवीर रंजन ने कहा, टूल किट लिखने वालों की मंशा देश के सौहार्द को नुकसान पहुंचाने, सरकार के खिलाफ नफरत फैलाने की है। इस मामले में टूल किट लिखने वालों के खिलाफ आईपीसी के तहत केस दर्ज किया गया है। हालांकि अभी किसी को भी इस केस में नामित नहीं किया गया है। उधर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी कहा कि ‘टूल किटÓ का मामला काफी गंभीर है और कुछ विदेशी ताकतें भारत के खिलाफ साजिश रच रही है।  आपको बता दें कि ग्रेटा थनबर्ग ने मंगलवार को किसान आंदोलन को समर्थन देते हुए ट्वीट किया था, इसके बाद उनपर पूरे मामले की जानकारी नहीं होने का आरोप लगाते हुए विदेश मंत्रालय ने भी सवाल उठाया था। बुधवार को भी ग्रेटा को एक ट्वीट के बाद बवाल मच गया था। इस ट्वीट में एक डॉक्युमेंट था, जो कथित रूप से किसान आंदोलन को लेकर कई तरह के अभियान चलाने से जुड़ा हुआ था। ग्रेटा ने बाद में इस ट्वीट को डिलीट कर दिया था। इसी मामले में दिल्ली पुलिस ने केस दर्ज किया, हालांकि केस दर्ज करने के बाद ग्रेटा ने आज ट्वीट करके कहा कि वो ऐसी धमकियों से डरने वाली नहीं है और किसान आंदोलन को समर्थन करती रहेंगी।


Share