वेटर की फूड पॉयजनिंग से मौत परिजन अस्पताल के बजाए ले गए झाड-फूंक करवाने

वेटर की फूड पॉयजनिंग से मौत परिजन अस्पताल के बजाए ले गए झाड-फूंक करवाने
Share

उदयपुर. नगर संवाददाता & शहर के सुखेर थाना क्षेत्र में एक रेस्टोरेंट में काम करने वाले एक वेटर की इसी रेस्टोरेंट में खाना खाने के बाद फूड पोईजनिंग के चलते मौत हो गई। मृतक के परिजन सुबह अचेतावस्था में मिले इस युवक का उपचार करवाने के बजाए अपने घर पर ले गए और दो घंटे तक झाड-फूंक करते रहे। बाद में इस युवक को चिकित्सालय लेकर गए, जहां पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक के परिजनों ने शव को रेस्टोरेंट के प्रांगण में ही ले जाकर रख दिया है और रेस्टोरेंट संचालक पर हत्या का आरोप लगाते हुए कार्यवाही की मांग की है। शव रात भर वहीं पर पड़ा रहा। वहीं मृतक के एक साथी की स्थिति गंभीर बनी हुई है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार मनीष (18) पुत्र प्रेम गमेती निवासी बोरो का गुड़ा अपने साथी शांतिलाल (18) पुत्र उदयलाल गमेती दोनों घर के पास ही स्थित फोरेस्ट होटल एण्ड रेस्टोरेंट में नौकरी करते थे। गुरूवार शाम को इन्होंने होटल पर ही खाना खाया और कमरे पर जाकर सो गये। फूड पॉयजनिंग के कारण रात्रि में ही मनीष की मौत हो गई जबकि शांतिलाल अद्र्धचेतन अवस्था में पड़ा हुआ था। सुबह काफी देर कमरे से बाहर नहीं निकले तो इनका काका शिवलाल गमेती होटल पर गया और दरवाजा खटखटाया तो शांतिलाल ने लडख़ड़ाते हुए दरवाजा खोला और नीचे गिर गया। उसे तुरन्त अस्पताल ले जाया गया वहीं मनीष के मुंह से झाग व खून निकल रहे थे। यह देखकर मनीष गमेती को परिजन चिकित्सालय ले जाने के बजाए अपने घर पर लेकर गए और वहां पर झाड-फूंक किया।

करीब दो घंटे बाद मनीष को एमबी चिकित्सालय में लेकर गए, जहां पर चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक के पिता प्रेम पुत्र केसुलाल गमेती की रिपोर्ट पर पुलिस ने मामला दर्ज कर शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया। इस दौरान गांव के ग्रामीण बार-बार होटल संचालक पर हत्या का आरोप लगा रहे थे और काफी आक्रोशित थे। शव को पोस्टमार्टम के बाद लेकर गए और सीधा होटल के प्रांगण में ही रख दिया, जहां पर परिजन कार्यवाही की मांग पर अड़ गए। मौके पर सुखेर पुलिस का जाब्ता मौजूद रहा और समझाईश की, लेकिन परिजन नहीं माने। देर रात्रि तक शव को होटल के प्रांगण में ही रखा हुआ था और परिजन कार्यवाही की मांग पर अड़े हुए थे। इधर पुलिस स्थानीय जनप्रतिनिधियों की सहायता से समझाईश करने का प्रयास कर रही है।


Share