11 लाख अभ्यार्थियों का इंतजार खत्म, रीट पात्रता प्रमाण पत्र जारी, अब 32000 शिक्षकों की भर्ती में शामिल हो पाएंगे अभ्यार्थी

Wait for 11 lakh candidates is over REET eligibility certificate issued, now candidates will be able to join the recruitment of 32000 teachers
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान के 11 लाख से ज्यादा रीट अभ्यर्थियों का इंतजार खत्म हो गया है। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर ने रीट अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र जारी कर दिए हैं। बोर्ड ने प्रदेशभर में 11 लाख से अधिक लेवल वन और लेवल 2 अभ्यार्थियों के पात्रता प्रमाण पत्र जिला स्तर पर भेज दिए हैं। जिन्हें पात्र अभ्यर्थी विद्यार्थी सेवा केंद्र से ले सकेंगे।

परिजन भी ले सकेंगे प्रमाण पत्र

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से जारी प्रमाण पत्र लेने में अगर कोई विद्यार्थी असमर्थ है तो वह अपने आवेदन पत्र में अधिकृत व्यक्ति को मूल दस्तावेजों के साथ भी प्रमाण पत्र लेने भेज सकता है। इसके लिए विद्यार्थी की आईडी की फोटो कॉपी और रीट प्रमाण पत्र की फोटो कॉपी ले जाना जरूरी होगा। इसके लिए सुबह 10.30 बजे से दोपहर 3.30 बजे तक पात्रता प्रमाण पत्र अभ्यर्थी के मूल जिले में वितरित किये जायेंगे।

32 हजार पदों की भर्ती प्रक्रिया शुरू

32 हजार पदों पर भर्ती के लिए 10 जनवरी से 9 फरवरी तक आवेदन भरे जाएंगे, इसलिए अभ्यर्थियों को रीट के प्रमाण-पत्रों की जरूरत पड़ेगी। भर्ती प्रक्रिया के दौरान एक से अधिक पद की योग्यता या पात्रता होने पर अभ्यर्थी को अलग-अलग आवेदन करना होगा। वहीं ऑफलाइन आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे। ऑनलाइन आवेदन के दौरान गैर अनुसूचित क्षेत्र के विज्ञप्ति पदों के लिए अनुसूचित क्षेत्र सहित पूरे राजस्थान और राजस्थान के बाहर के अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकेंगे, जबकि अनुसूचित क्षेत्र के विज्ञप्ति पदों के लिए सिर्फ राजस्थान के अनुसूचित क्षेत्र के मूल अभ्यर्थी ही आवेदन कर पाएंगे।

जल्दी रिजल्ट जारी होने से भी अभ्यर्थी हुए थे परेशान

दरअसल, रीट का रिजल्ट जल्दी जारी होने से बीएड सेकंड ईयर की पढ़ाई कर रहे करीब एक लाख अभ्यर्थियों के सामने शिक्षक भर्ती से बाहर होने का खतरा पैदा हो गया था। भर्ती के लिए सरकार ने शर्त रखी थी कि उनके पास रीट के परिणाम की तारीख तक बीएड की डिग्री होनी चाहिए। हालांकि समय रहते सरकार ने यह मामला संभाल लिया था और उनको शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन की अंतिम तिथि तक बीएड की डिग्री प्राप्त करने की छूट प्रदान कर दी थी।


Share