वैक्सीन क्लीनिकल परिक्षण: 17 स्वयंसेवकों को पुणे में रूस के Sputnik V कोविड़ -19 वैक्सीन का टीका लगाया गया

वैक्सीन क्लीनिकल परिक्षण: 17 स्वयंसेवकों को पुणे में रूस के Sputnik V कोविड़ -19 वैक्सीन का टीका लगाया गया
Share

नोबल अस्पताल के क्लिनिकल रिसर्च डिपार्टमेंट के प्रमुख डॉ एस के राउत ने कहा, “पिछले तीन दिनों में सत्रह स्वस्थ स्वयंसेवकों को स्पुतनिक वी के टीके लगाए गए।” उन्होंने कहा कि टीकाकरण की प्रक्रिया गुरुवार से शुरू हुई।डॉ राउत ने कहा, “सभी स्वयंसेवकों को, जिन्हें टीका लगाया गया था, अगले कुछ दिनों तक निगरानी में रहेंगे।”

Sputnik V वैक्सीन को गामाले नेशनल रिसर्च सेंटर ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी और रशियन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (RDIF) द्वारा विकसित किया गया है। फाइजर के बाद, स्पुतनिक वी: रूस का कहना है कि ये कोविड़-19 टीका 92% प्रभावकारिता दिखाता है।

सूत्रों के अनुसार, भारत ने रूस से 100 मिलियन खुराक खरीदी है।

डॉक्टरों ने कहा कि स्वयंसेवकों का चयन निर्धारित मानदंडों के अनुसार किया गया था क्योंकि उन्हें स्वस्थ रहने की जरूरत थी।वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण पुणे के पास स्थित केईएम अस्पताल अनुसंधान केंद्र में आयोजित किए जाने की योजना है।पुणे के अलावा, इस टीका के लिए परीक्षण लखनऊ और कानपुर (उत्तर प्रदेश), जयपुर(राजस्थान), वेल्लोर (तमिलनाडु), मैसूर (कर्नाटक) में भी आयोजित किए जाने की योजना है।

क्लिनिकल ट्रायल रजिस्ट्री- इंडिया (CTRI) के अनुसार, कुल 1,600 विषयों को रोप-वे किए जाने की योजना है

इन परीक्षणों के लिए (चरण- II में 100 और चरण- III में 1,500)।

डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज लिमिटेड और स्पुतनिक एलएलसी संयुक्त रूप से इन परीक्षणों का संचालन कर रहे हैं।


Share