17.72 करोड़ से अधिक लोगों का टीकाकरण – कोविड-19 वैक्सीन डोज

वैक्सीन : भारत का ग्लोबल प्लान तैयार
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में अब तक 17.72 करोड़ से अधिक लोगों को कोविड-19 टीकाकरण किया जा चुका है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से गुरूवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक 25,70,537 सत्रों में कुल 17 करोड़ 72 लाख 14 हजार 256 लोगों को कोरोना के टीके लगाये जा चुके हैं। इनमें 96,00 420 स्वास्थ्य देखभाल कर्मी शामिल हैं जिन्हें पहली खुराक तथा 65,70,062 कर्मियों को दूसरी खुराक दी गयी है। इसके अलावा एक करोड़ 42 लाख, 34 हजार 793 फ्रंट लाइन वर्कर्स को पहली और 80,30,007 को दूसरी खुराक दी गयी है।

आंकड़ों के मुताबिक 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में पांच करोड़ 40 लाख 99 हजार 241 लाभार्थियों ने पहली और एक करोड़ 67 लाख 97 हजार 272 ने दूसरी खुराक ली है। इसी प्रकार 45 से 60 वर्ष आयु वर्ग में पांच करोड़ 62 लाख 43 हजार 308 लोगों को पहली और 81 लाख 58 हजार 535 को दूसरी खुराक दी गयी है। वहीं 18-45 वर्ष आयु वर्ग में 34 लाख 80 हजार 618 लोग टीके की पहली खुराक ले चुके हैं। देश में पिछले 24 घंटों में तीन लाख 52 हजार 181 कोरोना मरीज स्वस्थ हुए हैं जिसे मिलाकर अब तक एक करोड़ 97 लाख 34 हजार 823 लोग कोरोनामुक्त हो चुके हैं। रिकवरी दर बढ़कर 83.26 फीसदी हो गयी है।

देश में वैक्सीन की कमी पर केंद्र और विपक्ष के बीच आरोप प्रत्यारोप जारी है। इस बीच स्वास्थ्य मामलों पर नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि कोवैक्सीन की निर्माता कंपनी भारत बायोटेक ने वैक्सीन का फॉर्मूला अन्य कंपनियों के साथ शेयर करने पर खुशी जताई है। कौवैक्सीन को बनाने में कोविड के जीवित वायरस का इस्तेमाल किया गया है, इस प्रक्रिया को बीएसएल-3 लैब में अंजाम दिया गया है। उन्होंने कहा, लोगों का कहना है कि कोवैक्सीन का निर्माण अन्य कंपनियों द्वारा किया जाना चाहिए और मुझे ये बताते हुए खुशी हो रही है कि कोवैक्सीन को बनाने वाली कंपनी ने इस प्रस्ताव का स्वागत किया है।

इसके अलावा वीके पॉल ने कहा कि बायोटेक्नोलॉजी विभाग के अलावा अन्य संबंधित विभाग और विदेश मंत्रालय फाइजर, मॉडर्ना, जॉनसन एंड जॉनसन जैसी कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों के साथ शुरू से ही संपर्क में हैं। उन्होंने कहा कि इन कंपनियों से आधिकारिक तौर पर वैक्सीन भारत भेजने या निर्मित करने के लिए कहा गया था। डॉ.पॉल ने कहा कि टीकाकरण के लिए हम पार्टनर ढूंढऩा जारी रखेंगे और उनका सहयोग करेंगे।


Share