Thursday , 16 August 2018
Top Headlines:
Home » Udaipur » यूआईटी ने करोड़ों की जमीन से ध्वस्त किए कब्जे

यूआईटी ने करोड़ों की जमीन से ध्वस्त किए कब्जे

  • एफआईआर के दिए आदेश
  • पालड़ी कटारा में माफिया फिर से कर रहा था कब्जे
  • तहसीलदार पहुंचे दस्ते सहित, जेसीबी से ढहाई दीवारें

उदयपुर। बडग़ांव क्षेत्र में पालड़ी कटारा में सरकारी चरनोट और बिलानाम जमीनों पर कब्जे तथा अवैध निर्माण करने वाले एक व्यक्ति के खिलाफ यूआईटी ने मंगलवार को कानूनी कार्रवाई करने के आदेश दिए। इससे पहले दिन में यूआईटी ने मौके पर पहुंच जेसीबी से अवैध निर्माण और कब्जे ध्वस्त कर करोड़ों रुपए कीमत की 14 बीघा जमीन कब्जे मुक्त करवाई। उल्लेखनीय है ‘प्रात:कालÓ के 31 जुलाई 2018 के अंक में पृष्ठ संख्या 3 पर ‘पालड़ी कटारा और बड़ी में बिलानाम, चरनोट जमीनों पर कब्जे, अवैध निर्माण शुरूÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया गया था। इस पर यूआईटी तहसीलदार गोवद्र्धनसिंह झाला के दल ने पालड़ी कटारा पहुंच अतिक्रमण और अवैध निर्माण ध्वस्त करने की कार्रवाई की।
यूआईटी के अनुसार राजस्व ग्राम कटारा के आराजी नबंर 1284, 1279, 1257, 1274, 1258, 1279, 1275, 1276 और राजस्व ग्राम पालड़ी के आराजी नबंर 1248, 1257, 793, 787, 788, 787 की जमीनें राजस्व रिकॉर्ड में नगर विकास प्रन्यास के नाम दर्ज है । पूर्व में यह भूमि चारागाह और बिलानाम किस्म भूमि दर्ज थी। इस भूमि पर दिनेशचंद्र पुत्र गणेशलाल सुथार ने बाड़ों आदि के रूप में अवैध निर्माण कर अतिक्रमण कर लिए थे। इसके खिलाफ तहसीलदार यूआईटी के न्यायालय में नगर सुधार अधिनियम 1959 की धारा 92-ए के तहत पहले भी प्रकरण दर्ज कर विधिवत सुनवाई करने के बाद कब्जे हटाने के आदेश दिए थे। पूर्व में यूआईटी ने इसके कब्जे हटाए थे लेकिन दो महीनों में दुबारा अवैध निर्माण करना शुरू कर दिया था। अतिक्रमी दिनेशचंद्र के खिलाफ संबंधित पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज कराने के आदेश दिए।सर्वे शुरू, बनाएंगे चारदिवारी
तहसीलदार ने बताया कि यूआईटी इन सरकारी जमीनों का सर्वे कर रही है। सर्वे पूरा होते ही जमीन सुरक्षित करने के लिए चारदिवारी बनाई जाएगी। कार्रवाई के दौरान तहसीलदार झाला सहित भू-अभिलेख निरीक्षक दुलीचंद शर्मा, पटवारी सुरपालसिंह सोलंकी, भरत इंटोदिया, सुमित राजपाल एवं होमगार्ड का जाब्ता मौजूद था।
10 करोड़ की है जमीन
यूआईटी ने कुल .3 हैक्टेयर जमीन कब्जा मुक्त करवाई। यह लगभग 14 बीघा भूमि वर्तमान बाजार दर के हिसाब से 10 करोड़ रुपए कीमत की है। अब यूआईटी इसकी चारदीवारियां बनाकर इसे सुरक्षित करेगी।
बड़ी में भी बड़ी जमीन पर कब्जा
यूआईटी ने बताया कि उक्त कब्जेदार ने बड़ी में भी एक बड़ी सरकारी जमीन पर कब्जा कर रखा है। इस जमीन का अदालत से कब्जेदार ने स्टे लिया हुआ है। इस प्रकरण में यूआईटी मजबूती से पैरवी कर स्टे हटवाने की कार्रवाई कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.