उदयपुर की वारदात ने देश को झकझोरा, शहर में तनाव, बाजार, चौराहों पर प्रदर्शन, धानमण्डी थानाधिकारी और एएसआई निलम्बित

कन्हैयालाल हत्याकांड , कानपुर से आया खंजर, उदयपुर में लगाई धार
Share

प्रदेश में इंटरनेट बंद, भाजपा-कांग्रेस नेताओं ने की घटनाक्रम की आलोचना, कटारिया बोले : योगी की तर्ज पर हो कार्रवाई, हत्यारों के घरों पर चले बुलडोजर, पुलिस की छुट्टिया रद्दपरीक्षार्थियों, हॉकर को कर्फ्यू में छूट

उदयपुर. नगर संवाददाता & शहर में निर्मम हत्या के बाद कुछ ही घंटों में उदयपुर को पूरे देश में चर्चा में ला दिया और देश में हर ओर इस घटनाक्रम की निंदा हो रही है। घटना के बाद शहर में तनाव का माहौल बन गया। शहर सैंकड़ों की संख्या में हिन्दू संगठनों पदाधिकारियों ने इस घटना का विरोध करते हुए जबरदस्त प्रदर्शन किया। यह प्रदर्शन शहर के हर चौराहे पर हुए। शहर के देहलीगेट चौराहे पर टायर जलाकर प्रदर्शन किए और शहर के बाजारों को बंद करवाया गया और कुछ ने अपनी स्वेच्छा से अपनी दुकान बंद कर दी। इधर जयपुर में इस घटना को लेकर उच्च स्तरीय एक बैठक बुलाई गई। मामला बढ़ता देखकर जयपुर से एडीजी दिनेश एमएन को उदयपुर के लिए रवाना किया है। सरकार ने प्रदेश भर में आगामी आदेश तक इंटरनेट बंद कर दिया। साथ ही जिला कलेक्टर ने कर्फ्यू के दौरान परिक्षार्थियों और हॉकरों को छूट दी है। इधर मामले में लापरवाही बरतने वाले धानमण्डी थानाधिकारी गोविन्द सिंह और एएसआई भँवरलाल को देर रात्रि को एसपी ने निलम्बित कर दिया। वहीं भाजपा-कांग्रेस के नेताओं ने इस घटनाक्रम की आलोचना की है।

दोपहर को हत्या के बाद घटना स्थल पर सैंकड़ोंं की संख्या में लोग एकत्रित हो गए और विरोध करने लगे। इसके साथ ही शहर सूरजपोल, देहलीगेट चौराहे पर एकत्रित लोगों ने बाजार बंद करवाने शुरू कर दिए। सबसे पहले बापूबाजार को बंद करवाया गया और हंगामा खड़ा कर दिया। काफी संख्या में लोग देहलीगेट चौराहे पर एकत्रित हो गए और यातायात जाम कर दिया और चौराहे पर टायर जलाकर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे पूरे शहर के बाजार बंद हो गए। विभिन्न बाजारों हिन्दू संगठनों के पदाधिकारी पहुँच गए और बाजारों को बंद करवा दिया। अधिकांश लोगों ने अपनी इच्छा से अपनी दुकानों को बंद कर दिया। शहर के देहलीगेट, हाथीपोल, बापू बाजार, मालदास स्ट्रीट, मण्डी, भड़भूजा घाटी, सर्राफा बाजार, सिंधी बाजार, चेतक सर्कल, अश्विनी बाजार, झीणीरेत चौक, सूरजपोल तथा आसपास के सम्पूर्ण बाजार देखते ही देखते बंद हो गये। वहीं शहर के सभी चौराहों पर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। इधर वार्ता होने के बाद आईजी, कलेक्टर व एसपी मौके पर पहुंचे तो वहां मौजूद लोगों से मृतक के बेटे से समझौते की बात सुनने के लिए कहा। यह कहते ही मौजूद भीड़ ने हंगामा शुरू कर दिया और उसे बोलने तक का मौका नहीं दिया। इस दौरान भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रमोद सामर, पूर्व जिलाध्यक्ष दिनेश भट्ट, विश्व हिन्दू परिषद के रमाकांत त्रिपाठी सहित विभिन्न हिन्दू संगठनों और तेली समाज के लोग भी मौके पर पहुंच गये। इस दौरान पूर्व उपमहापौर महेन्द्रसिंह शेखावत एवं बार एसोसिएशन के अध्यक्ष गिरिजा शंकर मेहता, पूर्व अध्यक्ष भरत जोशी, भाजपा की क्षेत्रिय पार्षद रूचिका चौधरी, कुलदीप शर्मा, गौरव प्रताप सिंह सहित कई जनप्रतिनिधि भी एकत्रित हो गए। लोगों ने मामले में कोताही बरतने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ तुरन्त कार्यवाही की।

हत्या के बाद दो वीडियो किए वायरल

हत्यारों ने हत्या के बाद दो विडियों को सोशल मीडिया पर वायरल किया। जिसमें एक विडियों को हत्याने ने 17 जून को बनाया था, जिसमें वह 28 जून को हत्या करने का दावा कर रहा था। हत्या के बाद दोनों बदमाशों ने एक विडियों ओर बनाया, जिसमें दोनों जिस हथियार से हत्या की थी उन्हें लहरा रहे थे।

धानमंडी थानाधिकारी और एएसआई निलम्बित

आईजी, डीआईजी एवं पुलिस अधीक्षक के सामने मामले में समझौता कराने वाले एएसआई भंवरलाल को तुरन्त प्रभाव से बर्खास्त करने की मांग की। उनका कहना था कि सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने के बाद पुलिस ने टेलर मास्टर को गिरफ्तार किया और कोर्ट से जमानत मिली उसके बाद भी लगातार फोन से उन्हें धमकियां मिल रही थी। इस संबंध में कई बार थाने पर शिकायत की लेकिन आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने की बजाए एएसआई भंवरलाल ने आरोपियों को बुलाकर टेलर मास्टर के साथ समझाईश कर मामले को रफा-दफा कर दिया। वहीं धानमंडी थानाधिकारी गोविन्द सिंह ने भी इसमें कोई कार्यवाही नहीं की। लोगों के आक्रोश जताने पर धानमण्डी थानाधिकारी गोविन्द सिंह और एएसआई भँवरलाल को निलम्बित कर दिया है।

उपमहापौर व पूर्व जिलाध्यक्ष में हॉट-टॉक

समझौते के बाद जैसे ही उपमहापौर पारस सिघंवी, अन्य नेता एवं मृतक के बेटे जहां शव पड़ा था, वहां पुलिस अधिकारियों के साथ पहुंचे। उस दौरान पहले से ही खड़े भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष दिनेश भट्ट, पूर्व उपमहापौर महेन्द्र सिंह शेखावत भी वहा मौजूद थे। समझौते की बात की जानकारी मृतक का बेटा देता उससे पहले ही उपमहापौर व पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष के बीच करीब हॉट टॉक होती रही। इस दौरान दोनों एक-दूसरे को यह कहते हुए सुनाई दिये कि आप हमें डरा नहीं सकते। इस पर मौके पर मौजूद एसीबी के डिआईजी ने दोनों नेताओं को शांत किया।

इंटरनेट बंद, 10 थाना क्षेत्रों में कफ्र्यू

मामले को बढ़ता हुआ देखकर संभागीय आयुक्त राजेन्द्र भट्ट ने एक आदेश जारी कर आगामी 24 घंटो के लिएइंटरनेट बंद करवा दिए। वहीं जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा ने भी एक आदेश जारी कर धानमण्डी, घंटाघर, हाथीपोल, अंबामाता, सूरजपोल, भुपालपूरा, सविना, गोवर्धनविलास, हिरणमगरी और प्रतापनगर थाना क्षेत्र में आगामी आदेश तक कफ्र्यू लगा दिया गया।

डिप्टी और पुलिसकर्मी पथराव में घायल

पुलिस कार्यवाही के दौरान ही दोनों पक्षों की ओर से हुए पथराव में डिप्टी जरनैल सिंह और एक जवान के हाथ में पत्थर लगा और दोनों घायल हो गए।

परिक्षार्थियों और हॉकरों को दी छूट

शहर के धानमण्डी, घंटाघर, हाथीपोल, अंबामाता, सूरजपोल, भूपालपूरा, सविना थाना क्षेत्रों में आगामी आदेश तक लगाए गए कफ्र्यू के दौरान आयोजित होने वाली परीक्षाओं के परीक्षार्थी एवं परीक्षा आयोजन में नियुक्त स्टाफ के लिए छूट रहेगी। इसी प्रकार से अखबार वितरण में लगे हॉकर्स को भी अखबार वितरण कार्य के लिए कफ्र्यू के प्रावधानों से छूट दी गई है।

एटीएस और एसओजी के एडीजी की अध्यक्षता में एसआईटी गठित

युवक की निर्मम हत्या की घटना की जाँच के लिए एडीजी एसओजी अशोक राठौर की अध्यक्षता में चार सदस्यीय एसआईटी का गठन किया गया हैं। विशेष अनुसंधान दल अति महानिदेशक पुलिस, एटीएस, एवं एसओजी के निर्देशन में काम करेगा। इसमें एसटीएस आईजी प्रफुल्ल कुमार, पुलिस अधीक्षक एसओजी गौरव यादव, एएसपी सीआईडी अपराधा शाखा उदयपुर गोपाल स्वरूप मेवाड़ा, एएसपी एसटीएस उदयपुर अनंत कुमार इस एसआईटी के सदस्य होंगे।

पुलिस का बल प्रयोग : घटना के बाद जब कुछ युवा जमकर हंगामा कर रहे थे और पथराव कर रहे थे तो पुलिस ने दोनों पक्षों के युवकों को बल प्रयोग कर खदेड़ा।

एक आरोपी भीलवाड़ा का

पुलिस के अनुसार एक आरोपी भीलवाड़ा जिले के आसींद का रहने वाला है। यह कई वर्षों से उदयपुर में रह रहा है। इस युवक के कुल सात भाई है, जिसमें से तीन आसींद में रहते है और तीन विजयनगर अजमेर में रहते है। रियाज अंसारी का भीलवाड़ा कनेक्शन सामने आने पर पुलिस ने भीलवाड़ा में असींद में सुरक्षा बढ़ा दी है।

बारिश के बाद जाम में फंसे लोग

शहर में प्रयोगशाला सहायक भर्ती परीक्षा के लिए आए परीक्षार्थियों की भीड़, कुछ समय के लिए तेज बारिश और जघन्य हत्या के विरोध के घटनाक्रम के बाद कई जगह जाम की स्थिति बन गई। शहर के सेवाश्रम से लेकर कुम्हारों का भट्टा तक की सड़क गीली मिट्टी व कीचड़ से रपटीली हो गई व कई वाहन चालक फिसल कर घायल हुए। उदियापोल से लेकर चेटक सर्कल तक भारी जाम की स्थित रही। यही नहीं शक्तिनगर, शास्त्री सर्कल, ठोकर चौराह, प्रतापनगर तक जाम में लोग फंसे रहे। परीक्षा देने आए विद्यार्थियों को कई-कई किलोमीटर पैदल चल कर बस व रेलवे स्टेशन तक पहुंचा पड़ा।

एनआईए टीम भेजी, राजस्थान में पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द

मामले की जांच के लिए एनआईए की 4 सदस्यीय टीम जांच के लिए उदयपुर भेजी गई है। टीम में सीनियर रैंक के अधिकारी मौजूद हैं। एनआईए अधिकारी केंद्रीय एजेंसी के साथ मिलकर मामले की तफ्तीश करने जा रहे हैं। बड़ी बात ये है कि कुछ दिन पहले ही अलकायदा ने धमकी थी कि कई बड़े शहरों में हमले होंगे, अब जांच एजेंसी इस एंगल से भी पूरे मामले की तफ्तीश करने वाली है। मामले की गंभीरता को देखते हुए राजस्थान में सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टियां भी रद्द कर दी गई हैं। अभी इस समय वारदात के बाद से ही बवाल शुरू हो गया है. कुछ जगहों पर आगजनी भी की गई है। ऐसे में स्थिति को देखते हुए पुलिस को अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है। इसके अलावा राज्य सरकार ने पूरे राज्य में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है।

नेता बोले : शर्मनाक घटना, आतंकवादी घटना, पूरे हिन्दू समाज पर हमला : पूनिया

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने आतंकवादी घटना बताया है। पूनिया ने कहा.यह हमला अकेले कन्हैयालाल पर नहीं पूरे हिन्दू समाज पर हमला है। सिलसिला रूका नहीं तो राजस्थान की जनता कानून व्यवस्था को लेकर 2023 का इंतजार नहीं करेगी। यह अशोक गहलोत की तुष्टिकरण की नीति का ही परिणाम है। ये सोचने और समझने का मुद्दा है किस तरह देश के प्रधानमंत्री तक हमला करने की बात कही गई। राजस्थान में जिस तरह पीएफआई और दूसरे आतंकवादी संगठनों का कांग्रेस के संरक्षण में आना.जाना हुआ है। उन्हें जो संरक्षण मिला है। उसकी ठीक से पड़ताल की जाए।

ऐसे अपराधियों के घरों पर चला देना चाहिए बुलडोजर : कटारिया

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया ने कहा राजस्थान सरकार को योगी सरकार की तरह ऐसे अपराधियों के घर बुलडोजर घुमाकर तोडऩे चाहिए, तब जाकर उन्हें सबक मिलेगा। मैं उदयपुर जा रहा हूं। सरकार को मुझे सुरक्षा देनी है तो दें, नहीं देनी है तो नहीं दे।

प्रदेश के इतिहास पर कालिख पोतने का काम – शेखावत

केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा राजस्थान सरकार और उसके मुखिया जिस तरह से इन विषयों को तूल देते हैं। आगे बढ़कर इन विषयों का खुद नेतृत्व करते हैं। वो ऐसे अराजक और असामाजिक तत्वों को इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। प्रदेश के सफेद इतिहास पर कालिख पोतने का एक और मौका राजस्थान सरकार ने अपने लॉ एंड ऑर्डर फेलियोर के जरिए दिया है। इसकी जांच होनी चाहिए।

करौली हिंसा के आरोपी मकबूल आज तक नहीं पकड़ा – किरोड़ी

किरोड़ीलाल मीणा ने कहा करौली हिंसा में पीएफआई का रोल सामने आया। उसके मकबूल अहमद को आज तक नहीं पकड़ा गया। जिसका परिणाम उदयपुर की घटना है और दूसरे जवानों को प्रेरित किया तुम भी सर कलम करो। उस पर भी प्रदेश के मुख्यमंत्री राजनीति कर रहे हैं।

इंटरनेट बंद के आदेश का बना मजाक

इंटरनेट बंद करने के आदेश शाम को 5.30 बजे से थे लेकिन उसका मजाक बनकर रहा गया। बीएसएनएल के सभी मोबाइल पर इंटरनेट सेवा तत्काल बंद कर दी गई मगर शाम को करीब 8 बजे तक अन्य मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनियों के फोन पर नेट काम करता रहा।

सरकारी कर्मचारी भी अटके, घर नहीं जा पाए

कफ्र्यू की घोषणा होने के बाद कुछ सरकारी कर्मचारी भी रास्ते में ही अटक गए। अभिषेक आचार्य ने बताया कि उन्हें रामपुरा में रोक दिया गया व परिचय देने के बाद भी वे आगे अपने घर भूपालपुरा तक नहीं पहुंच सके। ऐसे में उन्हें समीपस्थ अपने परिचित के यहां जाना पड़ा।

पेट्रोल पम्पों पर भीड़, कई लोग हुए परेशान

कफ्र्यू की घोषणा से शहरवासी सकते में आ गए तथा पेट्रोल पम्पों पर भारी भीड़ उमड़ गई। कई लोग पेट्रोल भरवाने से वंचित रह गई तथा वे पैदल ही वाहनों को घसीट कर घरों की ओर जाते नजर आए। कई लोगों ने शहर के गोवर्धन विलास से तीन-चार किलोमीटर आगे स्थित पेट्रोल पम्पों पर  पेट्रोल भरवाया मगर वहां भी रात 8 बजे बाद पेट्रोल खत्म हो गया।


Share