भाद्रपद के पहले दिन उदयपुर संभाग पानी-पानी, रात 11 बजे खोले स्वरूपसागर के गेट, सोम-कमला बांध के दो गेट खोले, गोदावरी बांध छलका

भाद्रपद के पहले दिन उदयपुर संभाग पानी-पानी, रात 11 बजे खोले स्वरूपसागर के गेट, सोम-कमला बांध के दो गेट खोले, गोदावरी बांध छलका
Share

नगर संवाददाता . उदयपुर। उदयपुर संभाग में शुक्रवार को मानसूनी मेघों ने भाद्रपद महीने के पहले दिन जमकर पानी बरसाया। दिन भर रिमझिम होती रही तो शाम ढलते-ढलते पूरे संभाग में तेज बारिश का दौर शुरू हुआ जो रात तक नहीं थमा। कई जगह दो घंटे में ही तीन-तीन इंच पानी बरस गया। उदयपुर शहर में शाम 5 से 8 बजे तक तीन घंटे में ढाई इंच बारिश हो गई। मौसम विभाग के अनुसार 12 घंटे में 66 मिमी बारिश हुई। बारिश से शहर पानी-पानी हो गया व कई आवाजाही में भारी परेशानी हुई। पिछोला झील जिसमें फतहसागर व सीसारम से पानी की आवक हो रही है, उसका गेज बढ़कर 10 फीट को पार कर गया। इससे जुड़ा स्वरूप सागर छलक गया व रात 11 बजे गेट खोलने पड़े जिससे आयड़ नदी चल पड़ी। इधर, देर रात को उदयसागर छलकने की कगार पर था। गेज 23 फीट के पास पहुंच गया था। शहर का 9 फीट क्षमता का गोवर्धन सागर बांध छलक गया जिससे सेेवाश्रम पुलिया के नीचे रपट पर चार से पांच फीट पानी का बहाव रहा। चित्तौडग़ढ़ से मिली जानकारी के अनुसार राणा प्रताप सागर बांध अपनी पूरी भराव क्षमता 1157.50 फीट से मात्र ढाई से तीन फीट खाली रह गया। जिसके चलते जल संसाधन के अधिकारी बांध का गेट खोल पानी की निकासी करने की तैयारी में है।

प्रतापगढ़ में 3 दिन से लगातार बारिश चल रही है।  24 घंटे के दौरान प्रतापगढ़ में 55 और छोटी सादड़ी में 56 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई। ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिया और सड़क के जलमग्न होने, टूटने के समाचार भी सामने आए। इस कारण कई क्षेत्रों में गांव का संपर्क आपस में कटा रहा।

डूंगरपुर में जिले के सबसे बडे बांध सोम कमला-अम्बा के दो गेट खोले गए। वहीं जिले की सीमा से लगने वाले खेरवाड़ा क्षेत्र के गोदावरी डेम भी अपनी भराव क्षमता को पूरा कर शुक्रवार प्रात: छलक गया। डूंगरपुर शहर में रात पौने नौ बजे झमाझम बारिश का दौर शुरू हुआ जो रात तक जारी था। शहर के कई इलाकों में जल जमाव हो गया।


Share