Thursday , 18 October 2018
Top Headlines:
Home » Twitter » Twitter : Suresh Goyal

Twitter : Suresh Goyal

  • जी-20 सम्मेलन में मोदी का चीन को तल्ख संदेश – आतंकवाद की 0 टोलरेन्स जरूरी
  • राजनाथ? … जो लोग पाकिस्तान के फेंके टुकड़ों पर काम कर रहे उनसे बात करने का क्या तुक?
  • हुर्रियत की शांति में दिलचस्पी है ही नहीं …. शांति हो जाये तो उनकी दुकानें न बन्द हो जाये?…
  • … पर जीलानी ने शरद यादव, डी. राजा, सीताराम येचुरी जैसों के जूता अच्छा मारा ….
  • … अरे भाई जीलानी भी जानता है कि इन जोकरों की कश्मीर में कोई हैसियत नहीं।
  • सीताराम? … संसद में बहुत भड़ भड़ करते थे ना कि अलगाववादियों से बात कर लो …. कर ली बात?
  • येचुरी? शरद यादव? डी. राजा? … जरा भी गैरत हो तो देश से माफी मांगो! … क्या जरूरत थी जीलानी के आगे नाक रगडऩे की?
  • उमर गिन गिन कर बदले चुका रहा …. मेहबूबा ने भी उमर व गुलाम नबी की सरकारों के साथ एसा ही किया था … भुगतो!
  • अब्दुल्ला हो या मुफ्ती … दोनों खानदानों ने पंडितों के कश्मीर से निष्कासन में अहम भूमिका अदा की।
  • खुद मदर टेरेसा कहती थी कि वे समाज सेवी नहीं, मसीही सेवक हैं। उनका काम अधिकाधिक लोगों को ईसाई पंथ में लाना है … वही किया भी।
  • तीन तलाक पर बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे? … सुप्रीम कोर्ट ने डर कर गेंद केन्द्र के पाले में फेंकी …
  • … मोदी? … दिखा दो 56 इन्च और कर दो सिफारिश 3 तलाक खत्म करने की …. यू.सी.सी. की तरफ कदम बढाओ!
  • श्री श्री रविशंकर सहित कई भारतीय धर्म गुरूओं को अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान मिलते हैं मगर हमारा मीडिया चर्चा तक नहीं करता
  • तेली का तेल जले – मशालची की क्यूं बले? … रिलायन्स मुफ्त में सेवा दे रहा है तो फोकों को तकलीफ क्यूं?
  • 10 दिन विपष्यणा, 10 दिन सैर, 10 दिन सर्जरी … 31 वे दिन ओफिस चले भी गए तो रोज 18 घन्टे काम करने वाले को गाली …
  • केजड़ीवाल व उसके 6 मंत्री ही मिलकर साल भर में 1 करोड़ के चाय-समोसे खा गये …. मुबारक हो! दिल्ली वासियों!
  • अवैध इमीग्रेशन पनपाने वाली जर्मन चांसलर एन्जेला मरकेल अपने ही घर में हारी … इस्लाम विरोधी पार्टी की जीत
  • क्या सरकार ईस्लामिक बेंकिंग को इजाजत दे रही? … पहले तो हारवेस्टिंग ओफ सोल्स और अब ये …. 2019 में सोचना भी मत।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.