एसीबी के शिकंजे में फंसी भ्रष्ट अफसरों की तिकड़ी – प्रदेश में तीन अफसरों के 14 ठिकानों पर छापेमारी

भीलवाड़ा जिले के मांडलगढ़ में एसीबी ने पकड़े दो रिश्वतखोर पकड़े - 4.20 लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार
Share

एसीबी ने गुरूवार को फिर एक बड़ा धमाका करते हुए आय से अधिक संपत्ति के मामले में जयपुर, जोधपुर और चित्तौडग़ढ़ में 3 अफसरों के खिलाफ  कार्रवाई कर हड़कंप मचा दिया। राज्य के 14 अलग-अलग ठिकानों पर एक साथ छापे मारे गए। तीनों अफसरों के घरों पर सर्च में बेशुमार धन-दौलत, जमीन, लग्जरी गाडिय़ा और लेन-देन का हिसाब-किताब और दस्तावेज बरामद हुए। एसीबी ने तीनों अफसरों के खिलाफ तीन अलग-अलग मुकदमे दर्ज किए। जयपुर में जेडीए (जयपुर विकास प्राधिकरण) में एक्सईएन निर्मल गोयल के आवास और ऑफिस में की गई। दूसरी कार्रवाई जोधपुर में सूरसागर के थाना प्रभारी प्रदीप कुमार शर्मा के आवास और अन्य ठिकानों पर की गई। तीसरी कार्रवाई चित्तौडग़ढ़ में जिला परिवहन अधिकारी मनीष कुमार शर्मा के छह ठिकानों पर की गई।

एडीजी दिनेश एम.एन ने बताया कि आय से अधिक संपत्ति जुटाने के मामले में चित्तौडग़ढ़ में जिला परिवहन अधिकारी मनीष कुमार शर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। डीटीओ मनीष कुमार के 6 ठिकानों पर एसीबी टीमों ने सर्च किया। इसमें जयपुर, चितौडग़ढ़, उदयपुर व जोधपुर प्रमुख हैं। जांच में पता चला कि डीटीओ मनीष कुमार शर्मा रईसी ठाट-बाट से रह रहे थे। उनकी सर्विस में खर्च व सम्पत्तियों पर 1.84 करोड़ रूपए का निवेश करने की जानकारी मिली जिसके 232 प्रतिशत अधिक होने का अनुमान है। मनीष शर्मा को राजसमंद की एसीबी टीम ने गोमती चौराहे से डिटेन किया व चित्तौडग़ढ़ ले जाया गया। यहां पर एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डॉ सिक्रम सिंह के नेतृत्व में संगम मार्ग स्थित आवास पर तलाशी अभियान चला।

निर्मल गोयल : सर्विस में छह करोड़ की संपत्ति कमाई, आय से 1450′ ज्यादा खर्च

एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि आय से ज्यादा संपत्ति अर्जित करने का पहला मुकदमा जेडीए में मानसरोवर जोन के एक्सईएन निर्मल कुमार गोयल के खिलाफ दर्ज किया गया। उनके जयपुर स्थित 4 ठिकानों पर छापामारी की गई। इसमें सामने आया कि निर्मल गोयल ने अपनी सर्विस के दौरान खर्च व सम्पतियों पर लगभग 6 करोड़ का निवेश किया है। यह रकम उनकी वैध इनकम से लगभग 1450 प्रतिशत अधिक है। एक्सईएन निर्मल कुमार गोयल के जयपुर में मध्यम मार्ग स्थित निवास स्थान पर टीम को विदेशी व महंगी शराब की 23 बोतलें, 2000 डॉलर व 245 यूरी की विदेशी मुद्रा, नकद 2 लाख 27 हजार 790 रूपए, दो लग्जरी कार मिलीं। साथ ही, 1100 गज के 2 प्लॉट्स जयपुर के सुमेर नगर में होने की जानकारी मिली है। इन पर निर्माण कार्य चल रहा है। इसके अलावा डीग में एक हवेली के कागज, दो लॉकर की चाबी, 318 ग्राम सोना, 3.5 किलोग्राम चांदी तथा अन्य प्रॉपर्टी के कागजात मिले हैं।

गोयल के दो अन्य ठिकानों पर लग्जरी गाडिय़ां, ज्वेलरी मिली

एसीबी की दूसरी टीम ने निर्मल गोयल के रजत पथ मानसरोवर जयपुर स्थित आवास पर तलाशी ली। यहां लग्जरी कार, 1.60 लाख नकद, 323.8 ग्राम सोना व 4.4 किलोग्राम चांदी, लॉकर की चाबी मिली। तीसरी टीम को निर्मल गोयल के मानसरोवर जयपुर में स्थित फार्म हाउस से मर्सिडीज कार, बोलेरो कैम्पर, भव्य फार्म हाउस, सुख सुविधाओं युक्त मय लग्जरी आवास, विदेशी शराब की खाली बोतलें व महंगे पेड़-पौधे मिले। चौथी टीम को जेडीए जयपुर ऑफिस से हिसाब-किताब की डायरियां मिलीं।

प्रदीप शर्मा : जोधपुर में कमाई से 333′ ज्यादा संपत्ति मिली

डीजी सोनी ने बताया कि एक एफआईआर प्रदीप कुमार शर्मा, पुलिस निरीक्षक थानाधिकारी सूरसागर जिला जोधपुर आयुक्तालय के खिलाफ दर्ज हुई। शर्मा के जोधपुर, भोपालगढ़ व बीकानेर स्थित चार ठिकानों पर सर्च में 4.43 करोड़ रूपए खर्च-निवेश का पता चला। यह रकम थाना प्रभारी प्रदीप की वैध कमाई से 333 प्रतिशत अधिक है। ब्यूरो की तीन टीमों की ओर से शर्मा के जोधपुर स्थित निवास स्थान पर सर्च में क्रेशर, जमीन खरीदने का इकरारनामा की कॉपी मिली। दूसरी टीम को प्राइवेट स्कूल भोपालगढ़, जोधपुर से 10 बीघा परिसर में बनाए गए स्कूल में तीन बसें, लगभग 22 हजार वर्गफुट का निर्माण व फर्नीचर, ब्यूरो की तीसरी टीम ने बीकानेर में प्रदीप शर्मा के मकान को सील कर दिया। यह मकान बंद पड़ा था।

मनीष शर्मा : उदयपुर-जयपुर के फ्लैट सील किए

एडीजी दिनेश एमएन के अनुसार ब्यूरो की 5 टीमों ने मनीष शर्मा के चित्तौडग़ढ़ वाले फ्लैट की तलाशी में 99,500 रूपए कैश, एक एनफील्ड बाइक, हुंडई क्रेटा कार, विदेश यात्राओं से संबंधित दस्तावेज, लैपटॉप, कैमरा, एप्पल फोन आदि मिले। ब्यूरो की दूसरी टीम ने जोधपुर आवास, तीसरी टीम ने बाड़मेर स्थित ट्रेवल्स एजेंसी की तलाशी ली। डीटीओ मनीष शर्मा का एक फ्लैट उदयपुर और एक फ्लैट जयपुर में है। एसीबी टीम ने दोनों फ्लैट को सील कर दिया। तलाशी अभियान डीआईजी सवाई सिंह गोदारा के सुपरविजन में चलाया गया।


Share