यूएनएससी में फहराया गया तिरंगा

यूएनएससी में फहराया गया तिरंगा
Share

– वैश्विक शांति के लिए अपने कार्यकाल का उपयोग करेगा भारत

न्यूयॉर्क (एजेंसी)। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थायी सदस्य के तौर पर भारत का दो साल का कार्यकाल सोमवारसे शुरू हो गया। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद  में भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लगाया गया। भारत के झंडे के साथ ही चार अन्य नए अस्थायी सदस्यों के राष्ट्रीय ध्वज भी पहले आधिकारिक कार्यदिवस पर विशेष समारोह के दौरान लगाए गए।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी. एस. तिरूमूर्ति ने यूएनएससी में तिरंगा लगाया और समारोह में संक्षिप्त भाषण दिया। अपने संक्षिप्त संबोधन में टी.एस. तिरूमूर्ति ने कहा कि भारत ने आज आठवीं बार सुरक्षा परिषद की सदस्यता ग्रहण की है। मेरे लिए भारत के स्थायी प्रतिनिधि के रूप में ध्वज स्थापना समारोह में भाग लेना सम्मान की बात है।

आतंकवाद के खिलाफ आवाज उठाने से नहीं कतराएगा भारत : तिरूमूर्ति

समारोह में बोलते हुए टी.एस. तिरूमूर्ति ने कहा, भारत, विकासशील देशों के लिए एक आवाज बनेगा। साथ ही आतंकवाद जैसे मानवता के दुश्मनों के खिलाफ अपनी आवाज उठाने से नहीं कतराएगा। उन्होंने कहा कि भारत, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपने कार्यकाल का उपयोग वैश्विक शांति और सुरक्षा के मामलों के लिए मानव-केंद्रित और समावेशी समाधान लाने के लिए करेगा।

भारत के साथ इन देशों के भी लगे राष्ट्रीय ध्वज

भारत के साथ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में नॉर्वे, केन्या, आयरलैंड और मैक्सिको के भी राष्ट्रीय ध्वज लगाए गए। ये देश भी यूएनएससी में अस्थायी सदस्य बने हैं। ये सभी देश अस्थायी सदस्यों इस्टोनिया, नाइजर, सेंट विंसेंट और ग्रेनाडा, ट्यूनिशिया, वियतनाम तथा पांच स्थायी सदस्यों चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका के साथ इस परिषद् का हिस्सा होंगे।

क्या है संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद, संयुक्त राष्ट्र संघ के 6 प्रमुख हिस्सों में से एक है। इसका मुख्य कार्य दुनियाभर में शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करना होता है इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र संघ में नए सदस्यों को जोडऩा और इसके चार्टर में बदलाव से जुड़ा काम भी सुरक्षा परिषद के काम का हिस्सा है। यह परिषद दुनियाभर के देशो में शांति मिशन भी भेजता है और अगर दुनिया के किसी हिस्से में मिलिट्री ऐक्शन की जरूरत होती है तो सुरक्षा परिषद रेजोल्यूशन के जरिए उसे लागू भी करता है।


Share