इकनॉमी को जबरदस्त बूस्ट – पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 20% से भी ज्यादा

जीडीपी में 7.5' गिरावट का अनुमान
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना काल में सबसे तगड़ा झटका देश की जीडीपी को लगा था। अब इसमें सुधार दिखने लगा है। मंगलवार को सरकार की तरफ से जीडीपी के ताजा आंकड़े जारी किए गए। वित्त वर्ष 2022 की पहली तिमाही यानी अप्रैल से जून में भारत की जीडीपी की ग्रोथ में 20.1 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है। आंकड़ों के अनुसार 2021-22 के पहली तिमाही में जीडीपी 32.38 लाख करोड़ रूपये रही है, जो 2020-21 की पहली तिमाही में 26.95 लाख करोड़ रूपये थी। यानी साल दर साल के आधार पर जीडीपी में 20.1 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। पिछले साल 2020-21 की पहली तिमाही में भारत की जीडीपी में 23.9 फीसदी की गिरावट आई थी।

रिजर्व बैंक के अनुमान के बेहद करीब

एसबीआई की ईकोरैप रिसर्च रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया था कि मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में देश की जीडीपी की दर 18.5 फीसदी रह सकती है। वहीं भारतीय रिजर्व बैंक का अनुमान था कि पहली तिमाही में अर्थव्यवस्था 21.4 फीसदी की दर दिखा सकती है। अभी सरकारी आंकड़ों के अनुसार जीडीपी ग्रोथ रेट 20.1 फीसदी है, जो रिजर्व बैंक के अनुमान के बेहद करीब है। जीडीपी की इतनी शानदार ग्रोथ रेट ये संकेत दे रही है कि भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से सुधर रही है।

एसबीआई का था ये अनुमान

एसबीआई रिसर्च की रिपोर्ट इकोरैप ने अनुमान लगाया था कि जीडीपी की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष 2021-22 की पहली अप्रैल-जून की तिमाही में 18.5 प्रतिशत रहेगी। वहीं, भारतीय रिजर्व बैंक ने अप्रैल-जून तिमाही के 21.4 प्रतिशत की वृद्धि दर का अनुमान लगाया था।

कोर इंडस्ट्री से भी अच्छी खबर

कोर इंडस्ट्री के मोर्चे पर भी अच्छी खबर आई है। इस सेक्टर का उत्पादन जुलाई में 9.4 प्रतिशत बढ़ा है। एक साल पहले इसी महीने में बुनियादी उद्योगों का उत्पादन 7.6 प्रतिशत घटा था। उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के आंकड़ों के अनुसार जुलाई में कोयला, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पादों, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट और बिजली क्षेत्र का उत्पादन एक साल पहले के इसी महीने की तुलना में बढ़ा है।


Share