दक्षिण पहुंची तीसरी लहर, कर्नाटक-केरल में संक्रमितों की संख्या 46 हजार पार

Third wave reached south, number of infected in Karnataka-Kerala crossed 46 thousand
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश भर में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते ही जा रहे हैं। महामारी की तीसरी लहर, जिसके बारे में माना जाता है कि उसने दिल्ली और मुंबई में अपने पीक को पार कर लिया है, ने कर्नाटक और केरल को कड़ी टक्कर दी है। दरअसल, दोनों ही दक्षिणी राज्यों ने पिछले 24 घंटों में रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज की है। भारत ने गुरूवार को 3 लाख से अधिक मामले दर्ज किए, जो महामारी की चल रही तीसरी लहर में सबसे अधिक है। ओमिक्रॉन से पैदा हुई तीसरी लहर का प्रभाव पहले दिल्ली और मुंबई में महसूस किया गया था, लेकिन अब यह लहर दक्षिण में पहुंच गया है, जिसमें केरल ने गुरूवार को 46,387 ताजा मामले दर्ज किए हैं।

केरल में मिले सर्वाधिक केस

बता दें कि दूसरी लहर के दौरान, केरल ने एक दिन में सर्वाधिक 43,529 कोविड मामले दर्ज किए, जो गुरूवार से पहले सबसे अधिक थे। हालांकि अस्पताल में भर्ती होने की दर कम बनी हुई है। केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने बुधवार को कहा कि राज्य में महामारी की तीसरी लहर शुरू हो चुकी है। मंत्री ने कहा कि डेल्टा और ओमिक्रॉन दोनों राज्य में वृद्धि में योगदान दे रहे हैं। मंत्री ने कहा कि अगर दूसरी लहर के दौरान प्रसार की सीमा 2.68 प्रतिशत थी, तो यह इन दिनों 3.12 प्रतिशत थी और अगले तीन सप्ताह राज्य के लिए महत्वपूर्ण होंगे।

कर्नाटक में कोरोना का कहर

वहीं, कर्नाटक की बात करें, तो यहां गुरूवार को 47,754 नए मामले दर्ज किए गए हैं। राज्य के बुलेटिन में कहा गया है कि इन मामलों में से 30,540 बेंगलुरू के हैं। महामारी की तीसरी लहर भारत में पहली और दूसरी लहर से अलग रही है। विशेषज्ञों ने कहा कि पिछली लहरें पश्चिम से पूर्व की ओर चली गईं, लेकिन यह लहर मेट्रो शहरों से दूसरे जिलों में चली गई। पिछले हफ्ते, केरल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने चेतावनी दी थी कि तीसरी लहर का चरम एक और सप्ताह में आएगा क्योंकि राज्य में ओमिक्रॉन का प्रसार थोड़ी देर से शुरू हुआ था।


Share