रीट की नहीं होगी सीबीआई जांच,  राठौड़ पर भड़के स्पीकर जोशी, कहा- मुझे ज्ञान दे रहे हो

There will be no CBI investigation of REIT, Speaker Joshi furious at Rathore, said- you are giving me knowledge
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। विधानसभा में रीट को लेकर भाजपा विधायकों ने शुक्रवार को भी हंगामा किया। भाजपा विधायक रीट की सीबीआई जांच पर अड़े हैं, इसे लेकर सदन में विरोध जारी रखे हुए हैं। स्पीकर के प्रयासों के बावजूद बात नहीं बनी, उधर सरकार ने सीबीआई जांच करवाने से इनकार कर दिया है। रीट पर चर्चा के दौरान संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने साफ कह दिया कि सरकार रीट की सीबीआई जांच नहीं करवाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार सदन में रीट पर जवाब देने को तैयार है। हम भाजपा राज के कारनामे भी गिनाएंगे, हिम्मत है तो करिए मुकाबला। सदन में बहस कीजिए। यह सब दिल्ली के इशारे पर किया जा रहा है।

धारीवाल ने कहा कि भाजपा राज के वक्त में जो कारनामे हुए हैं हम एक-एक गिनाएंगे। आज सीबीआई को जांच देने का मतलब क्या है? भाजपा राज में 5 बार पेपर लीक हुए, उस वक्त तो सीसीबाई को मामला छोड़ो एसओजी तक को नहीं दिया तो अब सीबीआई को क्यों दें। सरकार जवाब देने और भाजपा राज का कच्चा चि_ा खेलने को तैयार है। यह सब राजनीतिक कारणों से हो रहा है। दिल्ली के इशारे पर भाजपा विधायक सब कर रहे हैं।

इससे पहले उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने सदन शुरू होते ही रीट का मामला उठाना चाहा, लेकिन स्पीकर सीपी जोशी ने इजाजत नहीं दी। स्पीकर के मना करने के बावजूद राठौड़ ने बोलना जारी रखा तो स्पीकर नाराज हो गए और फटकार लगाई। भाजपा के 4 सस्पेंड विधायकों को सदन में लाने पर स्पीकर ने राजेंद्र राठौड़ से कहा- आप पार्लियामेंटेरियन हैं, कल 4 विधायकों को सस्पेंड किया था, उन्हें लेकर सदन में आ गए और हंगामा करवा रहे हो। मुझे संसदीय परंपराओं का ज्ञान दे रहे हो।

भारी हंगामे के बाद विधानसभा में तीन दिन से जारी गतिरोध टूटने के आसार बने। स्पीकर सीपी जोशी ने पहले तो तल्ख तेवर दिखाए लेकिन बाद में प्रश्नकाल खत्म होते ही उनके तेवर नरम हुए। स्पीकर ने नेता प्रतिपक्ष से गतिरोध तोडऩे की बात कही जिसके बाद विपक्ष भी नरम पड़ा। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने रीट पर चर्चा कराने के अलावा 4 विधायकों का निलंबन वापस लेने और कल की घटना मंत्रियों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की।

कटारिया और राठौड़ ने कहा कि जब तक चारों का निलंबन रद्द नहीं होता और रीट पर कोई फैसला नहीं होता तब तक वे सदन की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले सकते। इस पर स्पीकर सीपी जोशी ने कहा कि पहले बैठकर चर्चा कर लेते हैं। इसके बाद स्पीकर ने सदन की कार्यवाही एक घंटे के लिए स्थगित कर दी। दोबारा कार्यवाही शुरू होते ही उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि रीट की सीबीआई जांच के बिना हम विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले सकते, हम असमर्थ हैं। इसके बाद भाजपा विधायकों ने वेल में आकर नारेबाजी शुरू कर दी। गुरूवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर बहस के दौरान सीप्र.म. विधायक को बोलने से रोकने के बाद भारी हंगामा हुआ था। धक्कमुक्की के कारण भाजपा विधायक मदन दिलावर, रामलाल शर्मा, चंद्रभान सिंह आक्या और अविनाश गहलोत को पूरे सत्र के लिए निलंबित किया गया था।


Share