2 से 18 साल के बच्चों पर कोवैक्सीन के दूसरे-तीसरे फेज का ट्रायल होगा

कांग्रेस ने 'कोवैक्सीन' के अप्रूवल पर उठाए सवाल
Share

डेटा मॉनिटरिंग बोर्ड को देना होगा दूसरे फेज का ट्रायल डेटा

सूत्रों के मुताबिक एक्सपर्ट्स कमेटी ने कंपनी को तीसरे फेज के ट्रायल के लिए सीडीएससीओ से अनुमति लेने से पहले डेटा एंड सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड (डीएसएमबी) को दूसरे फेज का सुरक्षा डेटा मुहैया करने का निर्देश दिया है। इससे पहले 24 फरवरी को हुई बैठक में प्रस्ताव पर विचार-विमर्श किया गया था और भारत बायोटेक को रिवाइज्ड क्लिनिकल ट्रायल प्रोटोकॉल पेश करने का निर्देश दिया गया था।

बता दें कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के सहयोग से भारत बायोटेक द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित कोवैक्सिन टीके का उपयोग देश में वैक्सीनेशन प्रोग्राम के लिए 18+ के लिए किया जा रहा है।

कोवैक्सीन की उत्पादन क्षमता जुलाई तक हो जाएगी 6-7 गुना

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में वैक्सीन की कमी के आरोपों के बीच विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बताया है कि देश में कोवैक्सिन वैक्सीन की वर्तमान उत्पादन क्षमता मई-जून 2021 तक दोगुनी हो जाएगी और फिर जुलाई-अगस्त तक लगभग 6-7 गुना बढ़ जाएगी। यह 2021 तक प्रति माह लगभग 10 करोड़ खुराक तक पहुंचने की उम्मीद है। मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार की ओर से भारत बायोटेक की बेंगलुरू स्थित नई फैक्लिटी को 65 करोड़ रूपये के अनुदान के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है। वैक्सीन उत्पादन की क्षमता बढ़ाने के लिए 3 सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां भी सहयोग कर रही हैं।

18 राज्यों को वैक्सीन की सीधी आपूर्ति कर रही भारत बायोटेक

भारत बायोटेक ने मंगलवार को एलान किया था कि वह कोरोना के खिलाफ अपनी वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ की तेजी से आपूर्ति जारी रखेगी। इसने कहा कि एक मई से 18 राज्यों को ‘कोवैक्सीनÓ की सीधी आपूर्ति की जा रही है। भारत बायोटेक ने ट्वीट किया, एक मई से 18 राज्यों को ‘कोवैक्सीन’ की सीधी आपूर्ति की जा रही है। अपने प्रयासों के तहत हम अपनी वैक्सीन की तेजी से आपूर्ति जारी रखेंगे।

जिन राज्यों को कंपनी वैक्सीन की आपूर्ति कर रही है, उनमें आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, तमिलनाडु, त्रिपुरा, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश और बंगाल शामिल हैं।


Share