लाल किले पर नहीं गूंजेगी जवानों के कदमताल की धमक

लाल किले पर नहीं गूंजेगी जवानों के कदमताल की धमक
Share

इंडिया गेट सर्किल में नेशनल स्टेडियम पर खत्म हो जाएगी गणतंत्र दिवस की परेड

सिर्फ झांकियां पहुंचेंगी लाल किला, भारत पर्व का आयोजन भी किया रद्द

नई दिल्ली (एजेंसी)। ऐसा पहली बार होगा, जब गणतंत्र दिवस की परेड लाल किले तक नहीं जाएगी। इस बार केवल झांकियां ही लाल किले तक जाएंगी। झांकियों की संख्या इस बार बढ़ा दी गई है। पहले जहां 25 से 28 झांकियां रहती थीं, इस बार उनकी संख्या 32 कर दी गई है। इसके अलावा समारोह के स्वरूप में भी बड़े स्तर पर बदलाव किए गए हैं। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर ऐसा फैसला लिया गया है।

हर साल सैन्यकर्मियों समेत दिल्ली पुलिस की परेड राजपथ से शुरू होकर 8.2 किमी की दूरी तय कर लाल किले तक जाती थी। इस बार इसे 3.3 किमी तक ही सीमित रखा जाएगा। परेड के प्रत्येक समूह में 144 लोग शामिल होते थे, जबकि इस बार 96 लोग ही शामिल रहेंगे। परेड राजपथ से चलकर इंडिया गेट सर्किल में नेशनल स्टेडियम तक जाकर खत्म हो जाएगी। झांकियों की संख्या बढ़ाई तो गई है, लेकिन ये झांकियां लाल किले तक जाकर लौट जाएंगी, जबकि पूर्व में झांकियां लाल किले तक जाकर 31 जनवरी तक दर्शकों के लिए वहीं पर रखी जाती थीं।

गणतंत्र दिवस समारोह संपन्न होने के बाद उसी दिन शाम को लाल किले में भारत पर्व उत्सव का शुभारंभ किया जाता था। इसमें लोग देश की विविधता के दर्शन करते थे। छह दिवसीय भारत पर्व का आयोजन पर्यटन मंत्रालय द्वारा किया जाता था। लाल किले के ठीक सामने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति के लिए स्टेज बनाया जाता था। इस पर्व में विभिन्न राज्यों व मंत्रालयों के थीम स्टाल, हस्तशिल्प के स्टाल और विभिन्न राज्यों के खानपान के स्टाल होते थे। उस दौरान गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजपथ पर प्रदर्शित की जा चुकीं झांकियां देखने का भी लोगों को अवसर मिलता था। यह सब इस बार देखने को नहीं मिलेगा। लाल किले को आम लोगों के लिए 31 जनवरी तक बंद रखा जाता था, लेकिन इस बार भारत पर्व का आयोजन नहीं होने व झांकियां भी यहां न प्रदर्शित किए जाने के कारण आम लोगों के लिए लाल किले को 26 जनवरी की शाम को ही खोल दिया जाएगा।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, सुरक्षा व्यवस्था की तैयारी हर साल की भांति ही इस बार भी की जा रही है, लेकिन आयोजन के स्वरूप में भारी कमी कर दी गई है। इस बार राजपथ पर मेहमानों व दर्शकों की संख्या को भी सीमित किया जा सकता है।


Share