लगी सावन की झड़ी, उदयपुर संभाग में झमाझम

लो, आ गया मॉनसून, 3 दिन पहले केरल में दी दस्तक
Share

बांसवाड़ा बना चेरापंजी: भूंगड़ा में 8, केसरपुरा में 6, बांसवाड़ा शहर साढ़े 4 इंच बारिश, उदयपुर में दिनभर रूक-रूककर बरसे मेघ, सीसारमा चली, पिछोला में भी शुरू हुई आवक, निम्बाहेड़ा में इंच बारिश, नदी-नाले उफने

नगर संवाददाता उदयपुर। झीलों की नगरी सहित पूरे उदयपुर संभाग में मंगलवार को झमाझम बारिश हुई। मानसूनी बादलों ने दिनभर रह-रह कर बारिश के दौर चलाए जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। कई नदी व नालों में पानी आने से एनिकट व छोटे तालाब लबालब हो गए तो बड़े जलाशयों का जल स्तर बढ़ गया। बांसवाड़ा के भूंगड़ा में 203 मिमी पानी बरसा। कागदी के सभी 5 गेट खोल दिए गए। केसरपुरा और बांसवाड़ा शहर में क्रमश: 152 और 118 मिमी बारिश हुई। चित्तौडग़ढ़ जिले के निम्बाहेड़ा में 7 इंच बारिश रिकार्ड की गई। उदयपुर शहर में दिनभर में 33 एमएम पानी बरसा व झीलों की नगरी तरबतर हो गई। बरसात से सीसारमा नदी चल पड़ी, पिछोला झील में आवक शुरू हो गई। फतहसागर का जलस्तर 7.5 फीट को पार कर गया।  21 फीट क्षमता वाले छोटे मदार का जलस्तर बढ़कर 17.2 हो गया  तो वहीं बड़ा मदार से लगातार ओवरफ्लो पानी मदार नहर के रास्ते फतहसागर पहुंच रहा है। 24 फीट क्षमता वाले उदयसागर का जलस्तर भी बढ़कर 18.5 फीट हो गया है। मौमस विभाग के अनुसार स्वरूप सागर पर 23 मिमी, उदयसागर पर 6, बागोलिया में 40, मदार में 12, नाई में 17 मिमी बारिश दर्ज की गई। सीसारमा का गेज 1.6 फीट तो चिकलवास फीडर में जल स्तर 3.9 फीट  पर था। बारिश से शहर की गड्ढों वाली सड़कें और ज्यादा बदहाल हो गईं। डूंगरपुर के सीमलवाड़ा में वात्रक नदी उफान पर रही। मांडली मार्ग पर पुलिया टूटने से कई गांवों का संपर्क टूट गया, बाइपास भी बह गया। गलियाकोट में तीन इंच बारिश दर्ज की गई। राजसमंद के आमेट, रिछेड़, आकोला में झमाझम बारिश हुई।

प्रतापगढ़ में दो जने बहे, चित्तौडग़ढ़ में एक की मौत

बारिश ने संभाग में कई जगह रास्ते अवरूद्ध कर दिए तो नदी-नालों में उफान की वजह से लोगों की जान पर बन आइ। प्रतापगढ़ में एराव नदी को पार करते समय देर रात 11 बजे चार भाई बह गए। बारिश के कारण नदी का बहाव तेज था। दो का रेस्क्यू किया गया जिन्होंने तैरकर जान बचाई। लापता युवकों का पता नहीं चल पाया।  पुलिस के अनुसार जेता पुत्र डेलिया (23), राजेंद्र पुत्र मानसिंह (22), विजय पुत्र मानसिंह (25) और सुखलाल पुत्र थावरा (21) घर लौट रहे थे। पानी का बहाव तेज होने से नदी में चारों बह गए। विजय और सुखलाल तैरकर निकल गए। जेता व राजेंद्र लापता है। चित्तौडग़ढ़ में सोमवार को तेज बरसात के बीच अधेड़ बानसेन निवासी प्रेम (55) पुत्र जगन्नाथ भूतिया गांव से अलोड़ा बस्ती की ओर नदी पार करके आ रहा था। इस दौरान अचानक पानी आने और बहाव तेज होने के कारण अपना संतुलन खो बैठा व पानी में बह गया। आसपास के लोगों ने अधेड़ को बहते हुए देखा तो उसका वीडियो बना लिया।  एनडीआरएफ की रेस्क्यू टीम को दोपहर बाद शव तैरता मिला।


Share