विदेश मंत्रालय ने कहा – वॉर जोन में फंसे भारतीयों को निकालने बसें भेजी

यूक्रेन से लौटे 16 हजार मेडिकल छात्रों की पढ़ाई देश में कराने की तैयारी - रास्ता तलाश रही केंद्र सरकार
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। यूक्रेन और रूस की जंग लगातार नौवें दिन भी जारी है। वॉर जोन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए ऑपरेशन जारी है। केंद्र ने शुक्रवार को कहा कि यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में युद्ध प्रभावित खार्किव और सूमी से भारतीय नागरिकों को निकालने के प्रयास जारी हैं। विदेश मंत्रालय ने कहा कि पूर्वी यूक्रेन में ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है खासकर खारकीव और पिसोचिन में। वहां हमने बसें भेजी हैं। भारतीयों को निकालने के लिए 5 बस पहले ही ऑपरेशनल हैं। बाकी बसें आज शाम तक ऑपरेशनल हो जाएंगी।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि सीजफायर के बिना सभी छात्रों को निकालना मुश्किल है, चाहे लोकल सीजफायर हो। हम नहीं चाहते कि खतरे वाली जगह से किसी छात्र को बॉर्डर पार करने को कहें। उन्होंने कहा कि अगले 24 घंटों में 16 फ्लाइट भारत पहुंचने के बाद लगभग ऐसे सभी भारतीय भारत पहुंच जाएंगे जो यूक्रेन बॉर्डर पार करके पड़ोसी देशों में पहुंचे हैं। कुछ लोग अभी भी यूक्रेन में हैं। हम आगे भी लगातार फ्लाइट शेड्यूल करते रहेंगे।


Share