राजस्थान में सरकार गिराने का खेल फिर शुरू हो रहा

राजस्थान में सरकार गिराने का खेल फिर शुरू हो रहा
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को एक बड़ा बयान दिया। इसके बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई। गहलोत ने एक बार फिर भाजपा पर प्रदेश सरकार को गिराने का गेम शुरू करने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं उन्होंने तो यह तक कहा कि जनता तो ये कहती है कि अब महाराष्ट्र की बारी आने वाली है।

सीएम गहलोत ने यह बात सिरोही में कांग्रेस कार्यालय के उद्घाटन कार्यक्रम में कही। उन्होंने कार्यकर्ताओं को वर्चुअल कॉन्फ्रेंस के जरिए संबोधित किया। उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि वे पहले भी बागी विधायकों से मिले थे। तब शाह ने विधायकों से कहा था कि यह मेरा प्रेस्टीज पाइंट है। मैंने 5 सरकारें गिरा दी हैं, छठी भी गिराकर रहूंगा।

सीएम गहलोत ने कहा कि कोरोनाकाल में भी राजस्थान की सरकार गिराने के प्रयास हुए।

उन्होंने कहा कि हमारे विधायक जब अमित शाह से मिलने गए थे, तब वहां इस बैठक में पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान और राज्यसभा सांसद सैयद जाफर इस्लाम भी थे। करीब एक घंटे यह मुलाकात चली।

फिर विधायकों ने आकर मुझे बताया कि हमें शर्म आ रही थी कि कहां तो सरदार पटेल जैसे गृहमंत्री थे और कहां उनकी कुर्सी पर अब अमित शाह जैसे लोग बैठे हैं। विधायकों ने यह भी बताया था कि मंत्री धर्मेंद्र प्रधान उस दौरान सुप्रीमकोर्ट और हाईकोर्ट के जजों से बातचीत का ड्रामा भी कर रहे थे और उन विधायकों का हौसला भी बढ़ा रहे थे।

कुल मिलाकर वहां माहौल ऐसा बनाया जा रहा था कि हमें 4 राज्यों की सरकार गिराने का अनुभव है और पांचवी भी गिराकर रहेंगे। गहलोत ने कहा कि उस समय अजय माकन, रणदीप सुरजेवाला, वेणुगोपाल और अविनाश पांडे यहां आकर बैठ गए। उस समय इन्होंने जो फैसले लिए, हमारे नेताओं को बर्खास्त किया, तब जाकर हमारी सरकार बची सकी।

कहा जा रहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा के बहाने पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट पर निशाना साधा है. माना जा रहा है कि राजस्थान में जल्द ही मंत्रिमंडल का विस्तार होना है, ऐसे में बिना नाम लिए सचिन पायलट पर हमले के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं.

पीसीसी का नया भवन बनेगा

गहलोत ने कहा कि स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल कई बार कह चुके है कि पीसीसी का नया भवन बनना चाहिए। इसके लिए कोशिश की जा रही है। सभी जिलों और ब्लाकों में कांग्रेस कार्यालय होने चाहिए ताकि कांग्रेस नेता वहां बैठें और जनता की समस्याएं सुलझाएं। गहलोत ने कहा कि जनता व कार्यकर्ताओं से चंदा लेकर कार्यालय बनाएंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा की तर्ज पर दिल्ली से कोई पैसा नहीं आएगा

चार मुख्यमंत्रियों को राष्ट्रपति ने समय नहीं दिया

गहलोत ने किसानों के आंदोलन को लेकर कहा कि इसको लेकर राष्ट्रपति ने 4 मुख्यमंत्रियों को मिलने का समय तक नहीं दिया। मैंने तो खुद चार पांच बार मिलने के लिए समय लिखवाया। अंत में मुझे अपनी बात ट्वीट के जरिए कहनी पड़ी। यदि मोदी की सरकार पहले ही किसानों की बात सुन लेती तो यह आंदोलन ही नहीं होता। प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन ने कहा कि कांग्रेस कार्यालय जनता के लिए हों। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने भवन के लिए सिरोही विधायक संयम लोढा की सराहना की। विधायक संयम लोढा ने सभी का आभार व्यक्त किया।


Share