थानागाजी गैंगरेप मामला – 4 को उम्र कैद, पांचवे को 5 साल जेल

थानागाजी गैंगरेप मामला
Share

अलवर (कार्यालय संवाददाता)। बहुचर्चित थानागाजी सामूहिक दुष्कर्म मामले में अदालत ने मंगलवार को फैसला सुनाते हुए पांचों आरोपियों को दोषी माना। जिसके एक घंटे बाद 4 दोषियों को उम्र कैद की सजा सुनाई गई। साथ में 1-1 लाख आर्थिक दंड भी लगाया गया। वहीं, एक दोषी मुकेश को 5 साल की सजा सुनाई गई। फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा कि ये घटना कृष्ण काल में द्रोपदी के चीर हरण के समान है। यह फैसला जज बृजेश कुमार ने सुनाया। गौरतलब है कि यह वारदात 26 अप्रेल 2019 को दिनदहाड़े हुई थी, लेकिन सामूहिक गैंगरेप का मुकदमा 2 मई 2019 को थानागाजी थाने में दर्ज हुआ था। अदालत द्वारा इंद्राज, अशोक, छोटेलाल और हंसराज को उम्र कैद की सजा सुनाई गई है। साथ ही मुकेश को 5 साल की जेल हुई है। मुकेश द्वारा घटना का वीडियो वायरल किया गया था। कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि ये घटना कृष्ण काल में द्रोपदी के चीर हरण के समान है। दंड ऐसा होना चाहिये जिससे दुष्कर्म की घटनाओं की अमर बेल को काटा जा सके।

मामले में 16 दिन बाद ही पेश कर दिया गया था चालान

मामले में अभियोजन पक्ष द्वारा विशिष्ठ लोक अभियोजक कुलदीप जैन तथा आरोपियों की ओर से एडवोकेट भूपसिंह पोसवाल, भूपेंद्र खटाणा व महेश गोठवाल की ओर से पैरवी की गई। एएसआई अजय शर्मा ने बताया कि इस घटना की रिपोर्ट 2 मई 2019 को दर्ज होने के 16 दिनों बाद ही 18 मई को पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ ही अदालत में चालान पेश कर दिया था।

थानागाजी दुष्कर्म प्रकरण

घटना 26 अप्रैल 2019 की है। थानागाजी के रहने वाले एक दंपति बाइक पर जा रहे थे। तभी पांच युवकों ने उनका पीछा करके उन्हें रोक लिया। इसके बाद वह उन्हें जबरन जंगल ले गए। वहां महिला के साथ पति के सामने सामूहिक दुष्कर्म किया।

आरोपियों ने इसका वीडियो भी बनाया। इस मामले में 2 मई को एफआईआर दर्ज हुई। बताया जाता है के पीडि़त थाने गए थे, लेकिन पुलिस ने चुनाव में व्यस्त होने की बात कहकर मुकदमा नहीं लिखा। बाद में घटना का वीडियो वायरल होने के बाद मामले ने तूल पकड़ा।


Share