सुविवि कुलपति प्रोफेसर अमेरिका सिंह निलंबित, राज्य सरकार की अनुशंषा पर राज्यपाल ने लिया फैसला

सुविवि कुलपति प्रोफेसर अमेरिका सिंह निलंबित, राज्य सरकार की अनुशंषा पर राज्यपाल ने लिया फैसला
Share

नगर संवाददाता . उदयपुर। राजभवन ने मोहनलाल सुखाडिय़ा यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर अमेरिका सिंह को सस्पेंड कर दिया है। राज्यपाल के पास राज्य सरकार की उनको निलंबित करने की अनुशंसा कुछ महीनों से पेंडिंग थी जिस पर राज्यपाल ने यह फैसला किया। अमेरिका सिंह पर गुरूकुल विश्वविद्यालय की वस्तुस्थिति की जांच कर अनुमति देने वाली कमेटी के मुखिया होने के नाते भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे थे जिसकी पुलिस जांच भी चल रही है। अमेरिका सिंह 19 अप्रैल के बाद से स्वास्थ्य कारणों से लगातार अवकाश पर हैं। गत माह उनकी जगह सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय का प्रभार बांसवाड़ा ट्राइबल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. आई.वी त्रिवेदी को दिया गया। राज्यपाल ने आदेश में बताया है कि राजकार्य में  लापरवाही के चलते सरकार ने अमेरिका सिंह के निलम्बन की अनुशंसा की थी। अमेरिका सिंह पर गुरूकुल यूनिवर्सिटी के निरीक्षण की कथित फर्जी रिपोर्ट तैयार करने के आरोप हैं। इसके बाद सरकार ने कमेटी बनाकर जांच कराई जिसमें अमेरिका सिंह सहित कमेटी के सभी सदस्य दोषी पाए गए। सदस्यों को भी सरकार की अनुशंसा पर निलम्बित किया गया मगर बाद में उन्हें हाईकोर्ट से स्टे मिल गया। तब से अमेरिका सिंह पर गाज गिरनी तय थी। बताया गया कि अमेरिका सिंह की कार्यशैली से विपक्ष खासा नाराज था। खास तौर पर चंपाबाग की जमीन को लेकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया पर आरोप की वजह से वे भाजपा के निशाने पर आ गए, एक महीने तक उनके खिलाफ प्रदर्शन भी किया गया। सुविवि में ही कुछ शिक्षकों ने उन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए।  पिछले विधानसभा सत्र में 30 से ज्यादा विधायकों ने सिंह के खिलाफ प्रश्न लगाए थे व हंगामा भी हुआ था।

योग्यता की जांच अभी बाकी है

निलंबन होने पर नेता प्रतिपक्ष, भाजपाइयों व अभाविप ने खुशी जाहिर की व इसे सत्य की जीत बताया। फिलहाल अमेरिका सिंह की मुश्किलें कम होती नहीं दिखाई दे रही हैं। सिंह की वीसी पद की अकादमिक योग्यता को लेकर जांच राजेंद्र भट्ट कमेटी कर रही है। उसकी रिपोर्ट आते ही उनके लिए नया संकट खड़ा हो सकता है।


Share