स्पुतनिक-वी : रूस पहली खेप में भेजेगा 2 लाख डोज

Apple अपने कर्मचारियों को अपने कार्यालयों में COVID-19 टीकाकरण लगवाएगा
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत फिलहाल दो टीके कोविशील्ड और कोवैक्सिन के बल पर कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रहा है, लेकिन 1 मई से देश की ताकत और बढ़ जाएगी। दरअसल, एक मई से रूस में बनी स्पुतनिक-वी वैक्सीन की पहली खेप भारत पहुंच जाएगी, जिससे देश के टीकाकरण अभियान को गति मिलेगी। सूत्रों के अनुसार रूस से स्पुतनिक की पहली खेप मई के आरंभ में आएगी। इसमें डेढ़ से दो लाख खुराक आएंगी। इसके बाद मध्य मई या माह के अंत तक 30 लाख खुराक और आएंगी। जून में 50 लाख खुराक और आएंगी। एक समाचार एजेंसी ने रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआईएफ) के एक अधिकारी के हवाले से बताया कि  भारत को एक मई को रूसी कोरोना वैक्सीन ‘स्पूतनिक वी’ के पहली खेप मिल जाएगी।

देश में छह उत्पादन इकाइयां बनाएंगी स्पूतनिक-वी वैक्सीन

भारत में इस वैक्सीन की निर्माता कंपनी डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरीज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) दीपक सपरा ने एक इंटरव्यू में कहा, सीमित मात्रा में स्पूतनिक-वी की पहली खेप रूस से आयात की जाएगी। जैसे ही हम सीधे वैक्सीन की सप्लाई करने लगेंगे, रूस से आयात बंद कर दिया जाएगा। हमारी कंपनी ने भारत में स्पुतनिक-वीवैक्सीन बनाने के लिए छह उत्पादन इकाइयां चुनी हैं। इनमें से दो इकाइयों में जून-जुलाई से सप्लाई शुरू होने की उम्मीद है। अन्य दो इकाइयां अगस्त और आखिरी दो इकाइयां सितंबर-अक्टूबर से सप्लाई शुरू कर सकती हैं।

सपरा ने आगे कहा, रूस से आयात की जाने वाली वैक्सीन की पहली खेप सरकार के दिशानिर्देशों के अनुसार केंद्र, राज्य सरकारों और निजी अस्पतालों को दी जाएगी। अभी इस वैक्सीन की कीमत निर्धारण की प्रक्रिया चल रही है। आयात की गई वैक्सीन और देश में बनाई गई वैक्सीन की कीमतों में अंतर होगा।


Share