Wednesday , 15 August 2018
Top Headlines:
Home » Sports » पुरूष हॉकी टीम का अभ्यास शिविर आज से

पुरूष हॉकी टीम का अभ्यास शिविर आज से

नई दिल्ली। इंडोनेशिया में 18 अगस्त से होने वाले 18वें एशियाई खेलों से पूर्व भारतीय पुरूष हॉकी टीम बुधवार से बेंगलुरू के साई सेंटर में अपने अभ्यास शिविर में जुटेगी।
हॉकी इंडिया (एचआई) ने मंगलवार को बताया कि अगस्त में जकार्ता-पालेमबंग में शुरू हो रहे एशियाई खेलों से पूर्व 18 सदस्यीय पुरूष हॉकी टीम बेंगलुरू के साई सेंटर में राष्ट्रीय टीम के मुख्य कोच हरेंद्र ङ्क्षसह को रिपोर्ट करेगी। हॉकी इंडिया की विज्ञप्ति में हालांकि रिपोर्ट करने वाले खिलाडिय़ों में 25 नाम दिये गये हैं।
21 दिनों तक चले शिविर में पुरूष टीम ने बंगलादेश, दक्षिण कोरिया और न्यूजीलैंड के साथ लगातार मैच खेले थे जिसके बाद उन्हें कुछ समय के लिये आराम दिया गया था। एशियाड के लिये चुनी गयी टीम अब 11 अगस्त तक चलने वाले कैंप में तैयारियों को अंतिम रूप देगी। टीम के मुख्य कोच हरेंद्र ने कहा, हम एक सप्ताह के बाद फिर से अपनी तैयारी शुरू करेंगे। व्यस्त कार्यक्रम के बाद टीम को आराम की जरूरत थी।
एशियाड में पुरूष हॉकी टीम को पूल ए में दक्षिण कोरिया, जापान, श्रीलंका, हांगकांग, चीन और इंडोनेशिया के साथ रखा गया है। कोच ने कहा, हमारी टीम अब एशियाड की तैयारियों को आखिरी रूप देगी। हमारा लक्ष्य इस बार गोल्ड के साथ ओलंपिक क्वालिफिकेशन पक्का करना है। हम कैंप में अपने खेल के हर पहलू पर काम करेंगे तथा सर्किल में गोल करने के मौके बनाने पर ध्यान दे रहे हैं। हमने न्यूजीलैंड के खिलाफ जो गलतियां कीं उस पर भी हम गौर करेंगे।
मुख्य कोच ने साथ ही माना कि एशियाड में अच्छे प्रदर्शन की बदौलत भारतीय टीम को ओडिशा में होने वाले विश्वकप के लिये भी हौसला मिलेगा। कोच ने टीम संयोजन को लेकर कहा, हमारे पास अच्छे खिलाडिय़ों का मिश्रण है जिन्होंने हालिया टूर्नामेंटों में अपनी प्रतिभा को दिखाया है। हालांकि हमें दुख है कि रमनदीप ङ्क्षसह हमारे साथ नहीं हैं जिन्हें चोट के बाद घुटने की सर्जरी से गुजरना पड़ा है। लेकिन आकाशदीप की वापसी अहम है।
उन्होंने कहा, रूङ्क्षपदर और आकाशदीप दोनों ही कैंप में अभ्यासरत थे। उन्होंने बंगलादेश, दक्षिण कोरिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ अच्छा अभ्यास किया है। भारत ने इन तीनों टीमों के खिलाफ सीरीज जीती थी। भारत हाल में एफआईएच चैंपियंस ट्रॉफी में उपविजेता भी रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.