अब तक सामान्य से 22% से अधिक वर्षा, 8 जिलों में असामान्य बरसात, 12 जिलों में सामान्य से अधिक व 9 जिलों में समान्य वर्षा

Monsoon becomes active again in Rajasthan
Share

जयपुर  (कार्यालय संवाददाता)।  प्रदेश में मानसून की वर्षा का दौर जारी हैं और इस बार मानसून को आये अभी दो सप्ताह ही पूरे नहीं हुए कि अब तक सामान्य से 22 प्रतिशत से अधिक बारिश हो चुकी हैं वहीं प्रदेश के 8 जिले ऐसे है जहां अब तक असामान्य वर्षा हुई हैं।

जल संसाधन विभाग से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार राज्य में गत एक जून से अब तक सामान्य वर्षा 113.09 मिमी की तुलना में 138.44 मिमी बरसात हुई जो सामान्य से 22.4%  अधिक हैं। इस दौरान अब तक अजमेर, बीकानेर, चुरू, जैसलमेर, झुंझुनूं, कोटा, नागौर एवं सीकर जिलों में असामान्य बरसात हो चुकी है। इनमें सर्वाधिक वर्षा बीकानेर में हुई जहां सामान्य वर्षा 62.70 मिमी की जगह अब तक 180.89 मिमी बरसात हुई जो सामान्य से 188.5% अधिक हैं।

जैसलमेर में सामान्य 38 मिमी की तुलना में अब तक 84 मिमी बारिश हुई जो सामान्य से 121%  ज्यादा हैं। इसी तरह चुरू में सामान्य वर्षा 84.50 की जगह 185.71 मिमी बरसात हुई जो सामान्य से 119.8′ ज्यादा है। इसी प्रकार असामान्य वर्षा वाले शेष पांच जिलों में सामान्य से 60% से अधिक वर्षा दर्ज की गई।

इस दौरान राज्य के 12 जिलों जयपुर, जोधपुर, बारां, बाड़मेर, बूंदी, दौसा, धौलपुर, गंगानगर, झालावाड़, सवाईमाधोपुर, टोंक एवं उदयपुर में सामान्य से अधिक तथा 9 जिलों अलवर, भरतपुर, चित्तौडग़ढ, डूंगरपुर, हनुमानगढ़, जालौर करौली, पाली एवं राजसमंद में सामान्य बरसात हो चुकी हैं जबकि चार जिले बांसवाड़ा, भीलवाड़ा, प्रतापगढ़ एवं सिरोही ऐसे हैं जहां अब तक बरसात की कमी बनी हुई हैं। इस दौरान गत वर्ष की तुलना में अच्छी बरसात हुई हैं जबकि पिछले वर्ष इस दौरान केवल दो जिलों में ही असामान्य वर्षा एवं पांच जिलों में सामान्य से अधिक बरसात दर्ज की गई और 23 जिलों में वर्षा की कमी बनी रही तथा तीन जिलों मे अल्प वर्षा ही हुई।

राज्य में इस दौरान अच्छी बरसात के कारण बांधों में पानी की आवक अच्छी हुई और अब तक छोटे-बड़े 8 बांध लबालब हो चुके हैं तथा 270 बांध आंशिक रूप से भर गये हैं जबकि 433 बांध अभी खाली हैं।

पांच बांधों की स्थिति के बारे में विभाग के पास कोई सूचना नहीं हैं। बांधों की भराव क्षमता 12608.29 एमक्यूम की तुलना में अब तक इनका जल स्तर 5070.69 एमक्यूम पहुंच गया जो भराव क्षमता का 40.22 प्रतिशत हैं।

उल्लेखनीय है कि राज्य में मानसून गत 30 जनवरी को प्रवेश किया जो लगभग एक सप्ताह देरी से आया।


Share