सितमगर सर्दी, धूप बेअसर : राजसमंद 0.6 डिग्री

सितमगर सर्दी, धूप बेअसर : राजसमंद 0.6 डिग्री
Share

राजसमंद (प्रात:काल संवाददाता)।  जिले में न्यूनतम तापतान 0 डिग्री तक पहुंचने से शहरी क्षेत्र सहित जिले भर में गुरुवार की रात सबसे सर्द रही तथा खेतों में फसलों व घरों के बाहर खड़े वाहनों व बर्तनों में भरे पानी के ऊपर बर्फ की चादर बन गई। शनिवार को न्यूतनम तापमान 0 बढ़कर 0.6 डिग्री पहुंचा, लेकिन ठंड का असर अब भी जारी है। पिछले दो सप्ताह से कहर ढा रही शीत लहर व ठंड से लोगों का हाल बेहाल हो रहा है। शीत लहर के कारण धुप भी बेअसर साबित हो रही है। सुबह के समय व शाम होते ही ठंड और गलन का असर और भी तेज होने कारण लोगों का घरों के अंदर बैठना तक मुश्किल हो रहा है। लोगों घरों में हिटर, अलाव एवं अंगीठी आदि जलाकर सर्दी से बचने का जतन करते रहे। शनिवार को भी सुबह के समय ठंड का असर काफी अधिक रहा और चारों और कोहरा छाया रहा जो धुप निकलने के साथ ही धीरे-धीरे छंट गया। शनिवार को अधिकतम तापमान यथावत 19.5 डिग्री रहा जबकि न्यूनतम तापमान 0 से 0.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इससे आगामी कुछ दिनों के लिए भी ठंड का असर देखने को मिल सकता है।

किसानों में पाले से फसले चौपट होने की चिंता : राजसमंद जिले में शहरी क्षेत्रों की बजाय ग्रामीण क्षेत्रों में खेती-बाड़ी अधिक की जाती है। इसी बीच पिछले दो सप्ताह से जिले में शीत लहर के चलने और न्यूनतम तापमान में गिरावट के चलते पाला गिरने से फसलों के होने वाले खराबे की अशंका के चलते कश्तकारों को चिंता सताने लगी है। जिले के कुंभलगढ़ के केलवाड़ा, वरदड़ा, उनवास आदि क्षेत्रों में पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण ठंड का असर अधिक है। ऐसे में वहां की फसलों पर पाले का असर काफी अधिक देखने को मिल सकता है। ऐसे में कृषि विभाग के कृषि वैज्ञानिकों की ओर से काश्तकारों को फसलों की हल्की सिंचाई करने, 0.1 की मात्र में गंधक अम्ल का गोल तैयार कर फसलों पर छिंड़कने और खेतों की मेड़ों पर धुंआ करने की हिदायत दी है ताकि रात के समय गिरने वाली ओस की बूंदों व पाले के असर को कुछ हद तक कम किया जा सके।

चित्तौडग़ढ़ । पिछले दस दिनों से मौसम परिवर्तन के साथ ही रात व दिन का तापमान लगातार गिरता जा रहा है, जिसके चलते आमजन सर्दी के सितम से परेशान है। दिन में बादलों की लुकाछीपी के बीच हल्की धूप भले ही निकल रही है, लेकिन सर्द हवाओ के कारण जन जीवन प्रभावित होने लगा है। इतना ही नहीं सांझ ढलते ही कड़ाके की ठंड से लोग अलाव का सहाना लेने अथवा घरों में दुबकने को विवश है। मध्य रात्रि से लेकर सूर्योदय तक घने कोहरे के कारण वाहनों की रफ्तार धीमी होने के साथ ही सर्द राते आम आदमी के लिये परेशानी का सबब बनी हुई है, जिसके चलते मौसमी बिमारियों का प्रकोप भी बढने लगा है। मौसम विभाग की माने तो आगामी एक सप्ताह तक ठिठुरन भरी सर्दी और संभावित वर्षा के कारण जनजीवन प्रभावित होने की आशंका है। शनिवार को दिन का तापमान जहां 17 डिग्री रहा वहीं रात्रि का तापमान लुढ़कते पारे के कारण तीन डिग्री तक पहुंच गया।

कपासन ।  नगर सहित आसपास क्षेत्र में शनिवार को दिनभर ठंडी हवाएं चलने से जनजीवन प्रभावित रहा। नगर में शनिवार सुबह एवं शाम को ठंडी हवाएं चलने से लोगों में ठिठुरन बनी रही। गर्म पेय पदार्थ एवं अल्पाहार की दुकानों पर लोगों की आवाजाही बनी रही। लोगों ने अलाव जलाकर सर्दी से बचाव किया।

धरियावद। कस्बे में शनिवार अलसुबह से जारी सर्द हवाओं का दौर देर सांय तक जारी रहा दिनभर चली सर्द हवाओं के चलते वातावरण मेें ठिठूरन ठंडक व्याप्त रही। सर्दी से बचाव के लिए दोपहर को भी कही जगह ग्रामीण अलाव का ताप करते दिखार्ई दिए। शनिवार को अधिकतम तापमान 22.5 एवं न्यूनतम 7.2 डिग्री दर्ज किया गया।


Share