कन्हैया की तालिबानी तरीके से की गई हत्या के विरुद्ध सर्व हिन्दू समाज की मौन हुंकार, हत्यारों को फांसी की मांग, एक छोर देहलीगेट पर तो दूसरा टाउनहॉल में

कन्हैया की तालिबानी तरीके से की गई हत्या के विरुद्ध सर्व हिन्दू समाज की मौन हुंकार, हत्यारों को फांसी की मांग, एक छोर देहलीगेट पर तो दूसरा टाउनहॉल में
Share

नगर संवाददाता . उदयपुर। कन्हैयालाल की तालीबानी तरीके से की गई हत्या के बाद गुरूवार को शहर में सर्व समाज की ओर से एक विशाल प्रदर्शन किया गया, इसमें हजारों की संख्या मे लोग शामिल हुए और अपना आक्रोश जताया। टॉउन हॉल से हजारों की संख्या में लोग ने अपना आक्रोश जताते हुए एक विशाल रैली कलेक्ट्री तक निकाली और कलेक्ट्री को अपने आक्रोशित नारों से गुंजायमान करवा दिया। हजारों की संख्या में लोगों ने आरोपियों के तार पाकिस्तान से जुडे होने की गहन जांच और आरोपितों को त्वरित फांसी की मांग की। हजारों की संख्या में लोगों को देखकर पुलिस-प्रशासन के होंश उड़ गए और युवाओं के शांतिपूर्ण तरीके से रवाना होने पर राहत की सांस ली।

कन्हैयालाल तेली की हत्या के बाद से ही शहर में बच्चों से लेकर युवाओं में आक्रोश का माहौल है और लोग इससे काफी आक्रोशित हो गए। इस घटना के विरोध में सर्व समाज की विशाल प्रदर्शन गुरूवार को आयोजित किया गया। सुबह 9 बजे से ही टॉउन हॉल में लोगों का जुटना शुरू हो गया और हर क्षेत्र से सैंकड़ों की संख्या में लोग आ रहे थे और टॉउन हॉल में एकत्रित हो रहे थे। सुबह 10 बजे तक तो टॉउन हॉल में हजारों की संख्या में लोग एकत्रित हो गए और नारेबाजी करना शुरू कर दिया। 10.5 बजे सर्व समाज का जुलूस टॉउन हॉल से निकला, जिसमें हजारों की संख्या में लोग मौजूद थे। टॉउन हॉल से रवाना हुए जुलूस में आगे से आगे लोग जुड़ते जा रहे थे और युवा नारेबाजी कर रहे थे। आतंक के खिलाफ कार्रवाई, हत्यारों की फांसी, कन्हैयालाल को न्याय दो आदि नारे लिखी तख्तियों तथा भगवा पताकाओं के साथ रैली नगर निगम प्रांगण से निकल कर सूरजपोल, बापू बाजार, बैंक तिराहा, देहलीगेट होते हुए जिला कलेक्ट्रेट पहुंची। संत समाज के नेतृत्व में जब नगर निगम प्रांगण से रैली रवाना होकर बापूबाजार पहुंची तो करीब ढाई किलोमीटर लम्बे बापूबाजार के चौड़े मार्ग पर पांव देने तक की भी जगह नहीं थी। सड़क के एक छोर से दूसरे छोर तक समाजजन ही नजर आ रहे थे।

कलेक्ट्री के बाहर पहुँचकर सर्व समाज के अगुवाईयों ने अपनी बात रखी और जोरदार नारेबाजी की। बाहर ही हजारों की संख्या में लोगों के सामने ज्ञापन पढ़कर सुनाया गया और इसके बाद प्रतिनिधिमण्डल ने जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में राजस्थान की गहलोत सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने, मामले की जांच एनआईए से करवाकर हत्यारों को मृत्युदंड देने, सिमी, पीएफआई जैसे संगठनों पर प्रतिबंध लगाने, राजस्थान में रहने वाले राष्ट्रविरोधी तत्वों की पहचान कर कानूनी कार्रवाई करने, मृतक के परिजनों को पांच करोड़ मुआवजा, दोनों पुत्रों को स्थानीय सरकारी नौकरी, मृतक को बचाने के दौरान घायल हुए साथी के सम्पूर्ण उपचार सहित उसके पूरे परिवार की सम्पूर्ण सुरक्षा भी पुख्ता करने की मांग की गई। ज्ञापन देने वालों में उदयपुर संत समाज के अध्यक्ष हरिदासजी की मगरी स्थित चतुर्भुज हनुमान मंदिर के महंत इन्द्रदेव दास, बड़ीसादड़ी के सुदर्शनानंद महाराज, धोलीबावड़ी रामद्वारा के महंत दयाराम, फतह स्कूल हनुमान मंदिर के महंत अमरगिरी, महाकालेश्वर हनुमान मंदिर के प्रवीण दास, महंत राधिकाशरण, साहू समाज के प्रतिनिधि आदि शामिल थे।

इस सर्व समाज की रैली में हजारों की संख्या में लोग एकत्रित हुए और इसमें भीड़ का आलम यह था कि एक हिस्सा कलेक्ट्री पर था तो दूसरा हिस्सा बापूबाजार में था। युवाओं के हाथों में भगवा झंडे, पताकाएं और तिरंगे थे और वे जोरदार नारेबाजी कर रहे थे।

लगातार आते जा रहे थे

इस रैली को निकालने का समय 10 बजे निर्धारित किया गया था, लेकिन 10 बजे बाद भी लोगों का आना जारी रहा था और रैली में जुड़ते जा रहे थे। शहर के साथ-साथ आस-पास के गांवों से भी हजारों की संख्या में लोग आए और वे भी नारेबाजी कर रहे थे।

उम्मीद से ज्यादा भीड़, अधिकारियों के उड़े होश

सर्व समाज की ओर से आयोजित की गई इस रैली में हजारों की संख्या में लोग आए थे। इतने लोंग देखकर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के भी होंश उड़ गए। एडीजी दिनेश एमएन के नेतृत्व में डीआईजी राजेन्द्र प्रसाद गोयल, एसपी मनोज चौधरी, राजीव पचार के निर्देशन में भारी पुलिस बल। साथ-साथ संभागीय आयुक्त राजेन्द्र भट्ट, कलेक्टर ताराचंद के निर्देशन मे प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे थे।

आयोजक टोकते रहे और युवा नारे लगाते रहे

यह शांतिपूर्ण मार्च होने वाला था और किसी तरह की कोई नारेबाजी नहीं होनी थी, लेकिन इस घटना से आक्रोश में भरे युवाओं को कोई नहीं रोक पाया। युवा जोरदार नारेबाजी कर रहे थे, उन्हें लोग टोंंक भी रहे थे, लेकिन वह नहीं मान रहे थे।

देहलीगेट पर जताया आक्रोश, पुलिस ने भगाया

रैली के समापन के बाद देहलीगेट पर युवाओं ने आक्रोश जताया और एक कारखाने पर पथराव कर दिया और डिवाईडर के बीच में लग रही रेलिंग को भी मोड़ दिया। इस पर मौके पर पुलिस जाब्ता आया और इन युवाओं को वहां से खदेड़ा। इसके बाद युवाओं को एकत्रित नहीं होने दिया गया।


Share