मौन मुखर विरोध, हत्यारों को 14 दिन जेल शिनाख्तगी परेड आज, कोर्ट में पेश करने के दौरान चल ही नहीं पा रहे थे हत्या के दोनों आरोपी, पीडि़तों से मिले सीएम

मौन मुखर विरोध, हत्यारों को 14 दिन जेल शिनाख्तगी परेड आज, कोर्ट में पेश करने के दौरान चल ही नहीं पा रहे थे हत्या के दोनों आरोपी, पीडि़तों से मिले सीएम
Share

नगर संवाददाता . उदयपुर। कन्हैयालाल तेली की निर्मम हत्याकांड को लेकर गुरूवार को सर्व समाज की ओर से शहर में एक विशाल जुलूस निकाला गया। वहीं पुलिस ने सापेटिया स्थित एसके इंजीनियरिंग फैक्ट्री में दबिश दी, जहां पर आरोपियों ने खंजर बनाए थे और हत्या के बाद का चेतावनी और चैलेंज देने वाला वीडियो भी बनाया था और इस फैक्ट्री मालिक को हिरासत मं लिया। हत्यारों को पुलिस ने कड़ी सुरक्षा के बीच न्यायालय में पेश किया, जहां पर वकीलों ने उग्र प्रदर्शन किया और हत्यारों से मारपीट करने का प्रयास किया। आरोपियों को न्यायालय ने जेल भेज दिया, जहां पर शुक्रवार को शिनाख्तगी परेड होगी। वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मृतक कन्हैयालाल के घर पर गए, जहां परिजनों को सांत्वना दी और 51 लाख रूपए का चैक दिया। साथ ही एमबी चिकित्सालय में भर्ती ईश्वर गौड़ से भी मुलाकात की और सर्किट हाउस में अधिकारियों की बैठक लेकर कानून व्यवस्था को लेकर दिशा-निर्देश दिए। शाम को कलेक्ट्रेट में पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों एवं हिंदू संगठनों की बैठक हुई, जिसमें शर्तों के साथ जगन्नाथ रथयात्रा की स्वीकृति दी गई। इधर कलेक्ट्रेट में मुस्लिम समुदाय के मोतबीरों व समाजों के सदर की बैठक हुई, जिसमें शुक्रवार की नमाज में कर्फ्यू के नियम पालन पर सहमति जताई।  गुरूवार को सर्व समाज की ओर से विशाल शांति मार्च का आयोजन किया गया। टाउनहॉल पर सुबह 9 बजे से लोगों का आना शुरू हुआ, जो 10 बजे तक एक विशाल जनसमूह में बदल गया और हजारों की संख्या में लोग वहां पर एकत्रित हो गए। पैदल मार्च टाउनहॉल से रवाना होकर विभिन्न रास्तों से होता हुआ कलेक्ट्री पहुंचा और जोरदार प्रदर्शन कर कलेक्टर को ज्ञापन दिया गया।

फैक्ट्री में बनाए थे हथियार, एनआईए एसआईटी ने मारा छापा

इधर राज्य सरकार द्वारा गठित एसआईटी और केन्द्र की एनआईए टीम ने सापेटिया स्थित एसके इंजीनियरिंग पर दबिश दी। दोनों हत्यारों रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद ने इस फैक्ट्री में अपने हाथों से ये हथियार बनाए थे, जिनसे हत्या की थी। वहां पर पुलिस ने सख्ती से तलाशी ली और करीब एक घंटे से भी अधिक समय तक फैक्ट्री का कोना-काना छान मारा। आरोपियों ने हत्या के बाद चेतावनी और चैलेंज वाला विडियों जिस ऑफिस में बैठकर बनाया था उस ऑफिस की भी तस्दीक की। इसके बाद आरोपियों को न्यायालय में पेश किया, जहां पर अधिवक्ताओं ने जोरदार हंगामा किया और आरोपियों का विरोध कर मारपीट करने का प्रयास किया। आरोपियों को न्यायालय ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया, जहां पर शुक्रवार को चश्मदीद गवाहों से इनकी शिनाख्त परेड़ करवाई जाएगी।

सीएम गए कन्हैया के घर, सांत्वना दी 51 लाख का चैक सौंपा

दोपहर बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा, चीफ सैकेट्री उषा शर्मा, डीजीपी एमएल लाठर उदयपुर आए और मृतक कन्हैयालाल के घर पर गए, जहां पर कन्हैयालाल के दोनों बच्चों से मिले और सांत्वना दी। साथ ही आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही का आश्वासन दिया। सीएम मृतक की पत्नी यशोदा से भी मिले और उसे भी ढांढस बंधवाया और उसके नाम से बना 51 लाख रूपए का चैक दिया। इसके बाद अशोक गहलोत एमबी चिकित्सालय में गए और वहां पर घायल ईश्वर सिंह से मुलाकात कर उसकी स्थिति को जाना। साथ ही उसे पूरी सुरक्षा देने का आश्वासन दिया। इस दौरान चिकित्सकों से भी उचित उपचार के निर्देश दिए। बाद में सर्किट हाउस में अशोक गहलोत ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक ली और जिले की कानून स्थिति की जानकारी ली, साथ ही अधिकारियों को शुक्रवार को निकलने वाली रथयात्रा को लेकर सख्त दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि उपद्रवी के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए। इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पुन: जयपुर के लिए रवाना हो गए। शाम को कलेक्ट्री में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने पहले मुस्लिम समुदाय के मौतबीरों की बैठक ली और शुक्रवार को लेकर विशेष दिशा-निर्देश दिए।  इसके बाद हिन्दू संगठनो की बैठक ली, जिसमें शुक्रवार को निकलने वाली रथयात्रा को लेकर दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि हिन्दू-मुस्लिम समुदाय की जिम्मेदारी है कि रथयात्रा शांतिपूर्ण तरीके से निकले।


Share