योगी ‘स्टाइल’ में काम कर रहे शिवराज

योगी 'स्टाइल' में काम कर रहे शिवराज
Share

-अब पत्थरबाजों और उपद्रवियों पर कठोर हुआ ‘मामा’ का दिल

भोपाल (एजेंसी)। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का काम करने का स्टाइल अलग है। अब म.प्र. के सीएम शिवराज सिंह चौहान भी उन्हीं के रास्ते पर चल रहे हैं। यूपी में सीएए आंदोलन के लिए पत्थरबाजों और उपद्रवियों की संपत्ति नीलाम कर नुकसान की भरपाई की गई थी। सीएम शिवराज सिंह चौहान भी इसी रास्ते पर चल पड़े हैं। अब पत्थरबाजओं और उपद्रवियों से निपटने के लिए शिवराज सरकार म.प्र. में नया कानून ला रहे हैं।

दरअसल, यूपी में अपराधियों के रसूख को सरकार ध्वस्त कर रही है। अपराध में शामिल लोगों के मकान तोड़े जा रहे हैं। यूपी की तरह म.प्र. में भी शिवराज सरकार कुछ ऐसा ही कर रही है। एंटी माफिया अभियान के तहत प्रदेश के सभी जिलों में अपराधियों के घर-मकान तोड़े जा रहे हैं। इसके साथ ही कुछ मामलों में त्वरित कार्रवाई भी हुई है।

विधायक के ठिकाने भी ध्वस्त

ऐसे लोगों से निपटने के लिए शिवराज सिंह चौहान अब कितने सख्त हैं, इसका अंदाजा भोपाल की एक घटना से लगा सकते हैं। दरअसल, कुछ महीने पहले कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने भोपाल में बिना अनुमति के प्रदर्शन किया था। साथ ही भड़काऊ बयान भी दिया था। इस मामले में पुलिस ने जब केस दर्ज किया तो विधायक फरार हो गए। प्रशासन विधायक के अवैध निर्माण पर बुलडोजर चला कर तुरंत ध्वस्त कर दिया।

इसी तरह से पत्रकारिता की आड़ में ब्लैकमेलिंग करने वाले प्यारे मियां के ठिकानों को भी सरकार ने तबाह कर दिया है। भोपाल-इंदौर में उसके कई मकान को तोड़ दिए गए हैं।

लव जिहाद के खिलाफ अध्यादेश

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सबसे पहले लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने की बात कही थी। उसके बाद म.प्र. के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी ऐलान किया कि प्रदेश में लव जिहाज को रोकने के लिए हम कानून लाएंगे। यूपी की तरह म.प्र. में भी शिवराज सिंह चौहान लव जिहाद को रोकने के लिए अध्यादेश के जरिए कानून लाए हैं। अब लव के नाम धोखाधड़ी करने वाले लोगों को 1 से 10 साल तक की सजा होगी।

पत्थरबाजों से निपटेंगे

सीएए आंदोलन के दौरान यूपी में पत्थरबाजों और उपद्रवियों ने सरकारी संपत्तियों का बहुत नुकसान किया था। सरकार ने कठोर फैसला लेते हुए तय किया था कि आरोपियों की संपत्ति नीलाम कर नुकसान की भरपाई की जाएगी। यूपी सरकार ने ऐसा किया भी है। अब म.प्र. में शिवराज सिंह भी इसी राह पर चल पड़े हैं। म.प्र. सरकार भी पत्थरबाजों और उपद्रवियों से निपटने के लिए कानून ला रही है। अब पत्थरबाजी में शामिल लोगों को कठोर सजा दी जाएगी।

शिवराज सिंह ने कहा कि उपद्रवी सरकारी और निजी संपत्ति बहुत नुकसान करते हैं। इस कानून के आने के बाद नुकसान की भरपाई उनकी संपत्तियों को नीलाम कर किया जाए। सीएम ने कहा है कि पत्थरबाजी भी अपराध की एक बड़ी घटना है। इससे किसी की जान भी जा सकती है।

सीएम ने क्यों लिया ऐसा फैसला

दरअसल, म.प्र. में राम मंदिर निर्माण के लिए धन संग्रह किया जा रहा है। पिछले दिनों उज्जैन और इंदौर में इसके लिए हिंदू संगठनों ने रैली निकाली थी। रैली के ऊपर दोनों जगह पत्थरबाजी की घटना हुई थी। इसके बाद उज्जैन में पत्थरबाजों के घर तोड़े गए थे। हालांकि इन घटनाओं में एक पक्ष का आरोप था कि सरकार पक्षपात तरीके से कार्रवाई कर रही है।

नई इमेज गढ़ रहे हैं शिवराज

भाजपा में अभी प्र.म. मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की जोड़ी की अभी कोई काट नहीं है। दोनों की जोड़ी ने चुनावों में भाजपा को अपार सफलता दिलवाई है। साथ ही दोनों की छवि एक हिंदूवादी नेता के रूप में हैं। योगी आदित्यनाथ पहले से हिंदूत्व के फायर ब्रांड नेता हैं। सीएम शिवराज सिंह चौहान की छवि अभी एक कूल नेता की तरह थी। लेकिन इन फैसलों से वह अपनी एक नई इमेज गढ़ रहे हैं। साथ ही अपनी पहचान के एक हिंदूवादी नेता के रूप में स्थापित कर रहे हैं।

लव जिहाद और पत्थरबाजों के खिलाफ कानून से शिवराज सिंह चौहान यहीं संदेश देने की कोशिश कर रहे हैं। साथ ही अब उनके बयान भी पहले की तुलना में काफी आक्रामक होते हैं। अब शिवराज सिंह चौहान अपने बयानों को लेकर काफी सुर्खियों में रहते हैं।

परंपरांए भी तोड़ी

यूपी के सीएम नोएडा फोबिया से ग्रस्त रहते थे। योगी आदित्यनाथ ने इस फोबिया को तोड़ नोएडा का कई बार दौरा किया है। म.प्र. में भी था कि उज्जैन में कुंभ का आयोजन कराने वाला सीएम फिर से सीएम नहीं बनता है। शिवराज सिंह चौहान ने इस मिथक को तोड़ा है। कुंभ के बाद वह चौथी बार भी सीएम बने हैं। साथ ही कोई सीएम म.प्र. में अशोक नगर नहीं जाता था। लेकिन शिवराज सिंह चौहान यहां भी गए हैं।


Share