शिंदे बोले, कांग्रेस के जाल में फंस चुके थे उद्धव:कहा- , ‘मेरा साथ दे रहे विधायक ही बाल ठाकरे के उत्तराधिकारी, असली मुद्दा हिंदुत्व

Shinde also passed in floor test, 164 MLAs supported the government, 99 votes against
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)।  महाराष्ट्र में सत्ता संग्राम के बाद अब बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के ऑटो वाले बयान पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने पलटवार किया है। शिंदे ने कहा कि ऑटो वाले ने मर्सिडीज वालों को पछाड़ दिया है। सरकार जाने के बाद उद्धव ने कहा था कि एक ऑटो ड्राइवर ने गाड़ी इतनी तेज चलाई है, जिससे ब्रेक फेल हो गया। राजनीति में आने से पहले शिंदे ऑटो ड्राइवर का काम करते थे।

‘बालासाहब के हिंदुत्व का असली उत्तराधिकारी हम, उद्धव नहीं

शिंदे ने कहा- ठाकरे हिंदुत्व छोड़कर कांग्रेस और एनसीपी के जाल में फंस चुके थे। शिवसेना में कार्यकर्ताओं की बात नहीं सुनी जाती थी। मेरे साथ जिन विधायकों ने बगावत की है, वे सभी बालासाहब के हिंदुत्व के उत्तराधिकारी हैं। उद्धव ठाकरे बाला साहब ठाकरे और अनंत दीघे के विचार को हम आगे ले जाएंगे।

सीएम पद शिवसेना को देकर

भाजपा ने दिखाया बड़ा दिल

शिंदे ने आगे कहा, लोग कयास लगा रहे थे कि भाजपा सत्ता में आने के लिए कुछ भी कर सकती है, लेकिन महाराष्ट्र में भाजपा ने दिखा दिया कि असली मुद्दा विकास और हिंदुत्व है। अधिक विधायक होने के बावजूद मुझे मुख्यमंत्री बनाया गया, जो दिखाता है कि भाजपा का दिल बड़ा है।

आदित्य को मर्सिडीज बेबी

बोल चुके हैं फडणवीस

डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस कुछ दिन पहले उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य को मर्सिडीज बेबी कह चुके हैं। दरअसल, विश्वासमत से पहले उद्धव ने इस्तीफा देने का ऐलान किया। इसके बाद उद्धव मर्सिडीज से गवर्नर हाउस इस्तीफा देने गए थे, जिस पर सत्ताधारी दल लगातार तंज कस रहे हैं।

सबकी नजर 11 जुलाई पर, कैबिनेट विस्तार पर भी सस्पेंस

महाराष्ट्र का सियासी ड्रामे पर 11 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार, डिप्टी स्पीकर, शिवसेना और महाराष्ट्र पुलिस को नोटिस भेजा है। इधर, मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री के शपथ लेने के बाद कैबिनेट पर सस्पेंस बरकरार है। हालांकि, देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि जल्द ही कैबिनेट विस्तार किया जाएगा। कैबिनेट में भाजपा, शिवसेना के बागी विधायकों के अलावा कुछ निर्दलीय विधायकों को भी जगह मिल सकती है।


Share