शिल्पग्राम उत्सव का बजा नगाड़ा, विभिन्न लोक कलाओं का संगम देख लग रहा पूरा भारत यहीं एकत्र हो गया : राज्यपाल

Shilpgram festival's drums
Share

उदयपुर (वि)। राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा है कि देश इस समय आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है ऐसे समय में लोक कलाओं का यह पर्व हमारी विविधता में एकता की संस्कृति को दर्शाता है। सुदूर प्रांतों से विभिन्न रंग-बिरंगी वेषभूषा में इन कलाकारों को देखकर लग रहा है पूरा भारत शिल्पग्राम में ही एकत्र हो गया है। राज्यपाल मिश्र मंगलवार को उदयपुर के दस दिवसीय शिल्पग्राम महोत्सव के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे।  उन्होंने कहा कि देश के 25 राज्यों के 400 लोक कलाकार इस उत्सव में भाग ले रहे हैं।  कला एवं संस्कृति मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला ने  देश के विभिन्न राज्यों से आये कलाकारों का स्वागत करते हुए कहा कि कला और संस्कृति हमारे देश और राज्य की पहचान है।  राज्यपाल ने परंपरागत रूप से नगाड़ा बजाकर इस दस दिवसीय उत्सव का विधिवत शुभारंभ किया।  रंगमंच पर आयोजन से पूर्व राज्यपाल कलराज मिश्र उनकी पत्नी तथा परिजनों का शिल्पग्राम के मुख्य द्वार पर साफा व शॉल धारण करवा कर स्वागत किया गया।  मुख्य द्वार पर ही कला एवं संस्कृति मंत्री डॉ. कल्ला, विधायक फूल सिंह मीणा, तथा महापौर जी.एस. टांक का पारंपरिक ढंग से स्वागत किया गया। केंद्र निदेशक किरण सोनी गुप्ता मौजूद थीं। उद्घाटन अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम में लोक वाद्यों के समवेत सुर गूंज उठे। मणिपुर का कैरोल जगोई में कलाकार ने वुडन स्टिक को लयकारी के साथ संतुलित करते हुए अनूठे अंदाज में अपनी कला का प्रदर्शन किया।

लाईफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड सौंपें

राज्यपाल द्वारा कला मर्मज्ञ डॉ. कोमल कोठारी की स्मृति में लाइफ टाइम अचीवमेन्ट अवार्ड संयुक्त रूप से महाराष्ट्र के ठाणे के कला मनीषी डॉ. प्रकाश सहदेव खांडगे तथा राजस्थान के जयपुर से विजय वर्मा को प्रदान किया गया। डॉ. खांडगे को शॉल ओढ़ा कर तथा रजत पट्टिका व राशि रू. एक लाख पच्चीस हजार पांच सौ का चैक प्रदान किया गया। विजय वर्मा स्वास्थ्य कारणों से समारोह में उपस्थित नहीं हो सके।


Share