विराट की खराब फॉर्म को सुधारने शास्त्री का सुझाव- ‘आईपीएल से हट जाओ’

BCCI के सालाना कॉन्ट्रैक्ट में कई फेरबदल- रहाणे, पुजारा और हार्दिक का डिमोशन, विराट और रोहित को पहले की तरह ए+ ग्रेड में रखा
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के पूर्व कप्तान विराट कोहली का बल्ला आईपीएल के मौजूदा सीजन में खामोश है। उनकी खराब फॉर्म का दौर जारी है और वह अब तक 9 मैचों में 16 के औसत से कुल 128 रन ही बना पाए हैं। इस बीच टीम इंडिया के पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री ने कहा है कि कोहली को कुछ वक्त के लिए ब्रेक लेना चाहिए और आईपीएल के मौजूदा सीजन से हट जाना चाहिए। शास्त्री ने कहा कि विराट काफी वक्त से लगातार क्रिकेट खेल रहे हैं और वह कप्तानी भी कर रहे थे। विराट यूं तो आईपीएल में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। उनके नाम 5 शतक और 42 अर्धशतक हैं लेकिन मौजूदा सीजन में वह बेहद खराब दौर से गुजर रहे हैं। विराट ने सीजन शुरू होने से पहले ही टीम की कप्तानी भी छोड़ दी थी और अब फाफ डुप्लेसी के नेतृत्व में खेल रहे हैं। इस बीच टीम इंडिया के पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री ने उन्हें सुझाव दिया है।

शास्त्री ने जतिन सप्रूके यूट्यूब चैनल पर कहा, मुझे लगता है कि ब्रेक लेना उनके लिए आदर्श है क्योंकि उन्होंने नॉन-स्टॉप क्रिकेट खेला है। उन्होंने सभी फॉर्मेट में टीम की कप्तानी की है। उनके लिए ब्रेक लेना ही बुद्धिमानी होगी। आपको पता है कि कभी-कभी संतुलन बनाना पड़ता है। आप अपने अंतरराष्ट्रीय करियर को लंबा करना चाहते हैं और अगले 6-7 साल के लिए अपनी छाप छोडऩा चाहते हैं, तो आईपीएल से बाहर हो जाएं।

शास्त्री ने आगे कहा कि यह सलाह वह ना केवल कोहली को बल्कि इस तरह से संघर्ष कर रहे किसी भी अन्य बल्लेबाज को देंगे। भारत के खेलने के दौरान इस स्टार बल्लेबाज के लिए ब्रेक लेने के बजाय अभी ब्रेक लेना बेहतर होगा। शास्त्री ने कहा, आप 14-15 साल से खेल रहे हैं। विराट ही नहीं, मैं किसी और खिलाड़ी को भी यह बताऊंगा। यदि आप लंबा खेलना चाहते हैं और भारत के लिए अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हैं, तो आपको वह रेखा खींचनी होगी जहां आप उस ब्रेक को लेना चाहते हैं। आदर्श ब्रेक ऑफ सीजन होगा, जहां भारत नहीं खेल रहा हो।

उन्होंने कहा, भारत केवल आईपीएल नहीं खेलता है। कभी-कभी, आपको ऐसा करने की जरूरत होती है या फ्रेंचाइजी को बताना होता है कि मैं केवल आधा खेलूंगा। मुझे आधा ही भुगतान करें, उतना ही आसान है। यदि आप एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी के रूप में शीर्ष पर पहुंचना चाहते हैं तो ऐसे कठिन फैसले लेने की जरूरत है।


Share