कोहली के खुले सपोर्ट में उतरे शास्त्री, ‘सचिन भी छह बार में वर्ल्ड कप जीत पाए, गांगुली-द्रविड़ तो कभी नहीं जीते’

Shastri came out in open support of Kohli, 'Sachin also won the World Cup in six times, Ganguly-Dravid never won'
Share

मस्कट (एजेंसी)।  टीम इंडिया के हेड कोच पद से हटने के बाद रवि शास्त्री अब ओमान में जारी लीजेंड्स क्रिकेट लीग  के कमिश्नर हैं। टूर्नामेंट के दौरान कई पत्रकार उनसे भारतीय टीम पर सवाल कर रहे हैं। विराट की कप्तानी विवाद पर प्रश्न कर रहे हैं और रवि शास्त्री भी बेखौफ जवाब दे रहे हैं। अपने कोचिंग कार्यकाल में वर्ल्ड कप न जीतने की बात पर सुनिए उनकी बेबाक राय।

‘सचिन भी छठी बार में जीत पाए पहला वर्ल्ड कप’

शास्त्री ने कहा,  मुझे बताइए कि कितनी टीम लगातार इतना अच्छा खेल पाई है। कई बड़े प्लेयर्स वर्ल्ड कप नहीं जीत पाए। गांगुली, द्रविड़, कुंबले, लक्ष्मण, रोहित शर्मा कभी विश्व कप नहीं जीते। इसका मतलब यह नहीं कि ये सभी खराब प्लेयर्स हैं। आप जाकर मैदान पर अपना खेल दिखाते हैं। भारत में सिर्फ दो ही वर्ल्ड कप विनिंग कैप्टन हुए हैं। यहां तक कि सचिन तेंदुलकर भी छठी बार में अपना पहला वल्र्ड कप जीत पाए। इसलिए वल्र्ड कप से किसी को नहीं आंकना चाहिए।

किसी भी खिलाड़ी पर टिप्पणी से किया इनकार

यह पूछे जाने पर कि क्या कप्तानी छोडऩे के बाद कोहली के खेल में परिवर्तन आया है। शास्त्री ने कहा- मैंने दक्षिण अफ्रीका सीरीज का एक भी मैच नहीं देखा, लेकिन मुझे नहीं लगता कि इससे विराट कोहली में कुछ बदलाव आएगा। मैं टीम के साथ सात साल रहा हूं और मैं एक बात साफ करना चाहता हूं कि मैं सार्वजनिक तौर पर कुछ बोलकर विवाद नहीं खड़ा करना चाहता। मेरा जो काम था मैंने कर दिया। जिस दिन मेरा काम खत्म हुआ, उस दिन कुछ बोलना भी बंद। मैं अपने किसी भी खिलाड़ी के बारे में कुछ भी सार्वजनिक तौर पर नहीं बोलना चाहता।

कोहली अपनी बैटिंग पर ध्यान लगाना चाहते हैं

टेस्ट सीरीज में हार पर शास्त्री ने कहा कि जब भी टीम एक सीरीज हारती है, लोग आलोचना करने लगते हैं। कोई भी टीम सारे मैच नहीं जीत सकती। हार और जीत इस खेल का हिस्सा है। कोहली के कप्तानी छोडऩे पर शास्त्री ने कहा- यह उनका निजी फैसला है और हमें इसका सम्मान करना चाहिए। हर चीज का एक समय होता है। कई पूर्व कप्तानों ने अपने पद से इस्तीफा दिया और बल्लेबाजी पर फोकस करना चाहा था। चाहे वह सुनील गावस्कर हों या सचिन तेंदुलकर या एमएस धोनी। अब विराट का समय है।

कोहली-बीसीसीआई मुद्दे पर कोई टिप्पणी नहीं

शास्त्री ने कोहली और बीसीसीआई के बीच हुए विवाद पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि संवाद बहुत जरूरी है। मुझे नहीं पता दोनों के बीच क्या मामला है। मैं इस संवाद का हिस्सा नहीं था। मैं इस मामले पर दोनों से बातचीत करने से पहले कुछ भी नहीं कह सकता। इसलिए अगर मेरे पास पूरी जानकारी नहीं है, तो बेहतर है कि मैं अपना मुंह बंद रखूं। जब पूरी जानकारी मिल जाएगी, तब इस पर कुछ बोल सकूंगा।


Share