बंगाल में ममता पर बरसे शाह

Share

‘मां, माटी, मानुष का नारा तुष्टिकरण में बदला, भतीजे को CM बनाने की मंशा’

कोलकाता ( एजेंसी )| पश्चिम बंगाल में अपने तीन दिवसीय दौरे के आखिरी दिन मीडिया को सम्बोधित करने पहुंचे भाजपा नेता और गृहमंत्री अमित शाह ने ममता सरकार पर जमकर निशाना साधा। शाह ने कहा कि ममता बनर्जी को 10 साल पहले मां माटी मानुष के नारे पर वोट दिया गया था लेकिन 10 साल में ये बातें तुष्टिकरण कि सियासत में बदल गई। शाह ने कहा कि ममता बनर्जी का लक्ष्य है कि वह अगले कार्यकाल में अपने भतीजे को सीएम बना दें। लेकिन यहाँ के लोग मोदी जी के नेतृत्व में परिवर्तन चाहते हैं।

शाह ने कहा कि मैं बंगाल के लोगो को आश्स्वत करने आया हू कि पांच साल में सोनार बांग्ला बनाने का लक्ष्य पूरा किया जायेगा। शाह ने कहा कि पश्चिम बंगाल के लोगों ने कांग्रेस, वाम दलों और टीएमसी को मौका दिया हैं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी का लक्ष्य हैं कि वह अगली सरकार में अपने भतीजे को सीएम बना दें। पश्चिम बंगाल में प्रशासन का राजनीतिकरण किया गया हैं, इंस्टीटूशनल करप्शन किया जा रहा है और राजनीती का अपराधीकरण कर दिया गया है। पश्चिम बंगाल में तुष्टिकरण से बंगाल की जनता के एक बड़े वर्ग में दूसरे दर्जे का नागरिक होने का भाव पैदा हो गया है। पश्चिम बंगाल में तीन कानून हैं, एक अपने भतीजे के लिए, दूसरा वोट बैंक और तीसरा आम आदमी के लिए। कानून की पुस्तक में एक कानून हैं, लेकिन यहाँ लागु करने में तीन तरह का कानून देखने को मिलता है। ममता बनर्जी पर सवाल उठाते हुए कहा कि यहां 100 से अधिक भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या हुई। राजनीतिक हत्याओं के मामले में ममता सरकार क्या शवेतपत्र निकाल सकेगी क्या ? शाह ने कहा कि हम ममता बनर्जी सरकार से कहना चाहते है कि वह केंद्र की सरकार को लोगों तक पहुँचाए। केंद्र की सरकार की योजनाओ का सबसे बुरा हाल पश्चिम बंगाल में दिख रहा है। शाह ने कहा कि आयुष्मान भारत का लाभ पश्चिम बंगाल के लोगों तक नहीं पहुंच सका है। इसके अलावा किसान सम्मान निधि के पैसे बंगाल के लोगों तक नहीं पहुंच पाए क्योंकि सरकार ने खातों की डिटेल्स नहीं दिए। हर महीने ममता सरकार पत्र लिखती हैं कि पैसा हमें दें दो, लेकिन मैं जानता हूँ कि अगर ये पैसा दिया तो वो कैडर कि भेंट चला जायेगा।

एनसीआरबी को डेटा ना देकर क्या छिपा रही हैं ममता 

शाह ने यहां पर ममता बनर्जी से सात सवाल पूछे। शाह ने पूछा कि बंगाल सरकार ने 2018 के बाद एनसीआरबी को राज्य में अपराध के आंकड़े क्यों नहीं भेजे। आखिर सरकार छिपाना क्या चाहती हैं? शाह ने कहा कि 2018 में महिलाओं के खिलाफ अपराध में तीसरे नंबर पर बंगाल रहा हैं। बलात्कार, एसिड अटैक के मामलों में पहले नंबर रहा। गायब महिलाओं को ना ढूंढ पाने के मामले में देश में नंबर रहा। ममता दीदी क्या जवाब देंगी कि बंगाल कि महिलाएं क्यों असुरक्षित हैं। ममता बनर्जी को मुझे सवाल करने कि बजाय खुद चिंतन करना चाहिए।

 

 

 

 


Share