नवसंकल्प शिविर में भाग लेने आए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने कहा ‘जीएसटी को सही तरीके से लागू नहीं करने से गरीबी-बेरोजगारी बढ़ी’

Senior Congress leader P. Chidambaram, who came to participate in the Navsankalp camp, said 'Poverty-unemployment increased due to improper implementation of GST'
Share

‘महंगाई पर फेल मोदी सरकार, देश की इकोनोमी पॉलिसी को रिसेट करने की जरूरत

उदयपुर. नगर संवाददाता & लेकसिटी में हो रहे कांग्रेस के चिंतन शिविर में देश की आर्थिक नीतियों पर चर्चा करते हुए वर्तमान में जिस तरह से महंगाई बढ़ रही है उसके लिए केन्द्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है और महंगाई पर नियंत्रण में मोदी पूरी से फेल हो चुकी है। मोदी सरकार गरीब, किसान और युवाओं की विरोधी सरकार है और देश की इकोनॉमी पॉलिसी को फिर से रिसेट करने की जरूरत है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय वित्त मंत्री पी चिंदबरम ने पत्रकार वार्ता में कहा कि मोदी सरकार आर्थिक मसलों पर पूरी तरह से फेल हो गई है। चिंदबरम ने गेहूं के निर्यात पर रोक लगाने के सरकार के फैसले का भी विरोध किया। पी चिदंबरम ने कहा कि जीएसटी को ठीक ढंग से लागू नहीं किया गया है। जीएसटी का कंपंसेशन पीरियड 30 जून को खत्म हो रहा है। सरकार को उसको तीन साल एक्सटेंड करने जा रही है। पहले इस पर चर्चा होनी चाहिए और इसके बाद बाद ही इस पर निर्णय किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार जीएसटी में राज्य का हिस्सा भी अपने पास रखे हुए है, इससे राज्य सरकार को काफी नुकसान का सामन करना पड़ रहा है। पी चिदंबरम ने आरोप लगाया कि गैर भाजपा सरकारों को और परेशान किया जा रहा है। पी चिदंबरम ने कहा कि पेट्रोल-डीजल और गैस के लगातार दाम लगातार बढ़ रहे है और इसके लिए यूक्रेन व रूस के बीच युद्ध को जिम्मेदार बताया जा रहा है, जबकि युद्ध अचानक से चालू नहीं हुआ है। सरकार को महंगाई को नियंत्रण करने की तैयारी करनी थी जो नहीं की गई।

आर्थिक विफलताओं से गिर रहा है रूपया

चिदंबरम ने कहा कि हमारी सरकार के समय में रुपया इतना नहीं गिरा था जो हालत अब हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि रुपए की गिरने की वजह दो ही हो सकती है। हमारे यहां प्रॉडक्शन कम हो रहा है और निर्यात घट रहा है। मोदी सरकार किसी भी आर्थिक विशेषज्ञ की सलाह नहीं मान रही है और सरकार अपने हिसाब से काम कर रही है। देश के आर्थिक हालात ठीक नहीं हैं।

देश की स्थितियों को छोड़कर लाउड स्पीकर हटा रहे

पी चिदंबरम ने कहा कि हम इस बात पर मंथन कर रहे हैं कि देश के आर्थिक मुद्दे क्या है और लोगों को उनसे भटकाया जा रहा है। उन्होंने कहा 50 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी है। हजारों बच्चों की कुपोषण से मौत हो रही है। दस प्रतिशत लोग भूखमरी झेल रहे हैं। इन पर डिबेट नहीं हो रही है। डिबेट हो रही है लाउड स्पीकर पर, मंदिर-मस्जिद पर। चिदंबरम ने कहा कि कांग्रेस के 2019 के मेनिफेस्टो में कहा था हम सरकार में आए तो केंद्र सरकार की 30 लाख खाली पदों को भरेंगे। आज 2022 चल रहा हैए केंद्र में मोदी सरकार ने इन पदों को भरा नहीं है बल्कि और पद खाली हो गए हैं।


Share