4 माह बाद फिर खुुले स्कूल- उदयपुर : शहरी क्षेत्र में 80% तो ग्रामीण में 30% से भी कम बच्चे पहुंचे स्कूल

10 महीने बाद फिर खिलखिलाए स्कूल-कॉलेज
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान में वैश्विक महामारी कोरोना के कारण पिछले चार महीनों से भी अधिक समय से बंद कक्षा नौवीं एवं बारहवीं के स्कूल बुधवार को खुल गये जिससे स्कूलों में फिर रौनक लौट आई। जयपुर में पहले दिन सिर्फ 25′ छात्र ही स्कूल पहुंचे। राज्य के कोरोना के लगभग समाप्त हो जाने के बाद पहले कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों को ऑड-ईवन फार्मूले पर स्कूलों में प्रवेश दिया गया है। राजधानी जयपुर सहित अन्य सभी जिलों में इन स्कूलों के खुल जाने से चहल पहल बढ़ गई। हालांकि बुधवार को स्कूल खुलने के पहले दिन स्कूलों में बच्चों की संख्या कम रही। स्कूल पहुंचने वाले बच्चों का स्कूल के मुख्य दरवाजे पर शिक्षकों की तरफ से स्वागत किया गया और कोरोना गाइडलाइंस के तहत सोशल डिस्टेंङ्क्षसग के साथ उनका तापमान जांचा गया और एक-एक करके अंदर प्रवेश दिया गया। कक्षा में भी बच्चों को सोशल डिस्टेंङ्क्षसग के आधार पर बैठाया गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार स्कूल आने वाले बच्चों को अलग-अलग दिन के आधार पर बैच बनाकर पढ़ाया जायेगा।

शिक्षा विभाग ने कोरोना के मद्देनजर पढ़ाई के कोर्स में 30 प्रतिशत की कटौती करने का निर्णय लिया है। राजस्थान में कोरोना लगभग समाप्त हो गया और मंगलवार को कोरोना के केवल दो नये मामले सामने आये और गत अगस्त में इससे किसी भी मरीज की मौत का मामला सामने नहीं आया। इससे अब प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों के भी शीघ्र खुल जाने की आशा हैं। बताया जा रहा है कि छोटे बच्चों की स्कूलें खोलने के लिए केंद्र सरकार की गाइडलाइन का इंतजार किया जा रहा है।

लेकसिटी उदयपुर में भी स्कूल खुलने के बाद पहले दिन छात्रों की बेरुखी देखने को मिली। लंबे इंतजार के बाद खुले स्कूलों में टीचर छात्रों का इंतजार करते नजर आए। हालांकि इस दौरान शहरी क्षेत्र में बन स्कूलों में 80′ छात्र पहुंचे। ग्रामीण इलाकों में छात्रों का प्रतिशत घटकर 30′ से भी कम पर पहुंच गया। इसको लेकर अब टीचर्स भी काफी चिंतित हैं।


Share