टोक्यो ओलंपिक का सायोनारा : अब 2024 में पेरिस होगा मेजबान – 339 इवेंट्स में 11000 एथलीट्स शामिल हुए

टोक्यो ओलिंपिक आज से -उद्घाटन समारोह में भारतीय वायुसेना के 5 जवान लहराएंगे तिरंगा
Share

टोक्यो (एजेंसी)।  कोरोना महामारी की चुनौतियों के बावजूद टोक्यो ओलंपिक सफल रहा। 23 जुलाई को शुरू हुए इस इवेंट का समापन हो चुका है। इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी के अध्यक्ष थॉमस बाक ने टोक्यो ओलंपिक 2020 के समापन की औपचारिक घोषणा की। अब अगला ओलंपिक 2024 में पेरिस में होगा। टोक्यो में करीब 11 हजार एथलीट्स ने 339 इवेंट्स में हिस्सा लिया।

क्लोजिंग सेरेमनी में बजरंग पूनिया भारत के ध्वजवाहक रहे। भारत इस ओलंपिक में 7 मेडल के साथ 48वें स्थान पर रहा, जो उसका ओलंपिक इतिहास में सबसे शानदार प्रदर्शन है। भारत की ओर से जेवलिन थ्रो

में नीरज चोपड़ा ने गोल्ड, वेटलिफ्टर मीराबाई चानू और रेसलर रवि दहिया ने सिल्वर मेडल दिलाया। वहीं शटलर पीवी सिंधु, रेसलर बजरंग पूनिया, बॉक्सर लवलिना बोरगोहेन और पुरुष हॉकी टीम ने ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया।

क्लोजिंग सेरेमनी की शुरूआत आतिशबाजी से

क्लोजिंग सेरेमनी की शुरुआत आतिशबाजी से हुई। इसके बाद मंच पर मेजबान जापाना का झंडा लाया गया। इसके बाद सभी देशों के झंडे स्टेडियम में एक गोले में दिखाई दिए। धीरे-धीरे एथलीट्स भी स्टेडियम में आने लगे। यह शानदार दृश्य था, सिर्फ भारतीयों के लिए नहीं, बल्कि इसने दुनिया के सभी लोगों का दिल जीता। जिन खिलाडिय़ों के इवेंट्स आज थे, उन्हें मेडल भी दिया गया।

एफिल टावर पर ओलंपिक ध्वज फहराया गया

समापन समारोह में टोक्यो के गवर्नर युरिको कोइके और ढ्ढह्रष्ट के अध्यक्ष थॉमस बाक ने ओलंपिक ध्वज को पेरिस की मेयर एनी हिडाल्गो को सौंपा। पेरिस में ही अगला 2024 पेरिस ओलंपिक होना है। इस दौरान एफिल टावर पर ओलंपिक ध्वज भी फहराया गया।

क्लोजिंग सेरेमनी में सेल्फी, नीरज को ढूंढती निगाहें

ओलंपिक की क्लोजिंग सेरेमनी के दौरान जब भारत का तिरंगा लहराता हुआ दिखा तो हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो गया। ओलंपिक की क्लोजिंग से भारतीय दल की सेल्फी लेती एक तस्वीर सामने आई है जिसमें रवि दहिया, बजरंग पूनिया, दीपक पूनिया और महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी समेत 5 एथलीट दिखाई दे रहे हैं। हालांकि निगाहें नीरज चोपड़ा को भी ढूंढ रही हैं जिन्होंने ट्रैक एंड फील्ड में भारत को उसका पहला मेडल दिलाया। नीरज चोपड़ा के गोल्डन थ्रो ने भारत की झोली में इस ओलंपिक का एकमात्र गोल्ड मेडल दिया


Share