संजय राउत मनी लॉन्ड्रिंग केस, ईडी ने 2 जगहों पर की छापेमारी

Enforcement Directorate opposes bail plea of ​​Shiv Sena MP
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। चार दिन की हिरासत में जाने के बाद  मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दो ठिकानों पर छापेमारी की है। मुंबई की एक विशेष अदालत ने धनशोधन के मामले में गिरफ्तार शिवसेना के सांसद संजय राउत को सोमवार को 4 अगस्त तक के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया था। ईडी ने राउत को धनशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) अदालत में पेश कर आठ दिन की हिरासत मांगी थी। ईडी की ओर से पेश विशेष लोक अभियोजक हितेन वेनेगांवकर ने अदालत से कहा कि राउत और उनका परिवार अपराध से अर्जित धन के प्रत्यक्ष लाभार्थी हैं। राउत की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक मुंदारगी ने कहा कि आरोप अस्पष्ट है और राजनीतिक प्रतिशोध के चलते लगाए गए हैं। ईडी ने मुंबई की एक चॉल के पुनर्विकास में कथित अनियमितताओं से जुड़े एक मामले में रविवार मध्यरात्रि को राउत को गिरफ्तार किया था।

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को कहा कि शिवसेना नेता संजय राउत के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई निश्चित साक्ष्यों के आधार पर प्रतीत हो रही है।

भाजपा नेता ने कहा, ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) एक राष्ट्रीय जांच एजेंसी है। एजेंसी ने दस्तावेजों और सबूतों के आधार पर ही राउत के खिलाफ कार्रवाई की होगी। मैं इस पर आगे कोई टिप्पणी नहीं करूंगा। उनकी गिरफ्तारी और इससे जुड़े अन्य मसलों पर अदालत में चर्चा होगी। पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे ने धनशोधन के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा शिवसेना नेता संजय राउत को गिरफ्तार किए जाने को लेकर भी भाजपा की आलोचना की और राज्यसभा सदस्य को ऐसा ‘सच्चा शिवसैनिक’ करार दिया जो दबाव के आगे नहीं झुका।


Share