सचिन ने राजनीतिक नियुक्तियों में देरी पर उठाए सवाल, बोले- ‘जिन लोगों ने पार्टी के लिए काम किया, उन्हें पुरस्कृत और सम्मानित करना पड़ेगा, 19 महीने बाद चुनाव हैं’

Sachin raised questions on the delay in political appointments, said- 'Those who worked for the party, they will have to be rewarded and honored, there are elections after 19 months'
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने एक बार फिर पार्टी के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में भागीदारी की बात उठाई है। राजनीतिक नियुक्तियों में हो रही देरी के सवाल पर पायलट ने कहा कि मैं बहुत बार बोल चुका हूं, इसे बार-बार रिपीट करवाना क्यों चाहते हो। दोबारा इतना कहना चाहता हूं कि मेरी और सबकी व्यक्तिगत राय है कि जिन लोगों ने पार्टी के लिए काम किया है, उन्हें पुरस्कृत करना पड़ेगा।

पायलट ने कहा, हर व्यक्ति को हम मंत्री या बड़ा पद नहीं दे सकते लेकिन उसकी भागीदारी सुनिश्चित कर सकते हैं। कार्यकर्ताओं में जोश बना रहे। 19-20 महीने बाद चुनाव होने हैं और यह चुनाव जीतना बहुत जरूरी है। 30 साल से यहां सरकार रिपीट नहीं हो पाती, भाजपा-कांग्रेस का क्रम बना हुआ है। हमें उस परिपाटी उस क्रम को तोडऩा है। सोनिया गांधी और हमने पिछले दो तीन महीने से आप देख रहे होंगे उस दिशा में कुछ सही कदम उठाए हैं। जब 2023 का चुनाव होगा तो इस बार कांग्रेस जीतेगी।

भाजपा राज में प्रतिशोध की राजनीति

सतीश पूनिया की गाड़ी पर हमले के सवाल पर पायलट ने कहा- राजनीति ऐसा प्लेटफार्म है। जहां अलग सोच के लोग हैं, मैं नहीं समझता कि हिंसा, बदसलूकी का कोई स्थान होना चाहिए। जब से केंद्र में भाजपा का राज आया है तब से प्रतिशोध की राजनीति शुरू हो गई है। जांच एजेंसियों का दुरूपयोग करना आम बात हो गई है। राजनीति में हमें सभ्य भाषा का इस्तेमाल करना चाहिए और हिंसा का स्थान राजनीति में नहीं होना चाहिए।

पायलट पहले भी उठा चुके कार्यकर्ताओं के सम्मान की बात

सचिन पायलट पहले भी कई बार कार्यकर्ताओं को मान सम्मान देने की बात उठा चुके हैं। एक बार फिर पायलट ने वही बात उठाई है। पायलट ने इशारों में राजनीतिक नियुक्तियों में हो रही देरी पर सवाल उठा दिए हैं। सरकार बने तीन साल से ज्यादा का वक्त बीत चुका है, ऐसे में कई पद ऐसे हैं जहां पर दूसरी बार नियुक्तियां हो जातीं लेकिन कांग्रेस में खींचतान की वजह से राजनीतिक नियुक्तियों में लगातार देरी हो रही है।


Share