ड्रग्स में फंसी रिया को 14 दिनों की जेल

ड्रग्स में फंसी रिया को 14 दिनों की जेल
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने मंगलवार को सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध हालात में मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में सुशांत की महिला मित्र रिया चक्रवर्ती को गिरफ्तार कर लिया। रिया इस मामले में गिरफ्तार होने वाली दसवीं आरोपित हैं। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये कोर्ट में पेश किए जाने पर कोर्ट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। रिया के वकील सतीश मानशिंदे ने रिया के लिए जमानत की अर्जी दी थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया है। अब मंगलवार की रात रिया को एनसीबी के दफ्तर में बने लॉकअप में ही रखा जाएगा, क्योंकि जेल मैनुअल के मुताबिक सूर्यास्त के बाद जेल में किसी कैदी की एंट्री नहीं होती।

एनसीबी ने मंगलवार को रिया से लगातार तीसरे दिन करीब पांच घंटे तक पूछताछ की और उसके बाद दोपहर बाद 3.30 बजे गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए एनसीबी के उपनिदेशक (ऑपरेशंस) केपीएस मल्होत्रा ने बताया कि रिया के परिवार को गिरफ्तारी की सूचना दे दी गई है। रिया को उसकी वाट्सएप चैट से मिली जानकारियों और उससे पहले गिरफ्तार किए गए लोगों के बयानों के आधार पर गिरफ्तार किया गया है। एनसीबी ने कोर्ट में पेशी के दौरान रिया को अपनी हिरासत में देने की मांग नहीं की। इसका कारण बताते हुए एनसीबी के उपमहानिदेशक अशोक जैन ने कहा कि हमने उसे पर्याप्त सुबूतों के आधार पर गिरफ्तार किया है। पिछले कुछ दिनों में उससे पर्याप्त पूछताछ की जा चुकी है। इसलिए अब और पूछताछ की जरूरत नहीं है।

न्यायिक प्रक्रिया के तहत पहले रिया की ज्यूडिशियल कस्टडी पर कोर्ट ने फैसला सुनाया। इसमें रिया को 14 दिनों तक न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया गया। जबकि रिया के वकील की ओर से दाखिल जमानत की याचिका पर बाद में सुनवाई हुई। बाद में कोर्ट ने जमानत की याचिका खारिज कर दी। कोर्ट के सामने एनसीबी ने रिया की जमानत का विरोध किया। मंगलवार की रात अब रिया रिया घर नहीं जाएंगी। उन्हें अभी जेल भी नहीं भेजा जाएगा क्योंकि सूर्यास्त के बाद कैदियों की गिनती और उन्हें बैरक में भेजे जाने के बाद जेल में एंट्री बंद हो जाती है। ऐसे में रिया को एनसीबी दफ्तर में ही रातभर रूकना होगा जहां से सुबह उन्हें जेल भेजा जाएगा।


Share