रीट : काउंटडाउन शुरू- परीक्षा केंद्रों के लिए रवाना हुए अभ्यर्थी

रीट परीक्षा - अब निजी बस में भी परिवहन नि:शुल्क होगा- हथियार बंद पुलिस बलों की होगी तैनातगी
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। शिक्षा मंत्री गोङ्क्षवद ङ्क्षसह डोटासरा ने कहा है कि 26 सितंबर को होने वाली प्रदेश की अब तक की सबसे बड़ी परीक्षा अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) 2021 को सफल एवं पूरी पारदर्शिता के साथ कराने के लिए सरकार एवं प्रशासन ने कमर कसी ली हैं और कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जायेगी।

डोटासरा ने शुक्रवार को यहां रीट परीक्षा को लेकर मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि प्रदेश में यह परीक्षा अब तक की सबसे बड़ी परीक्षा होने जा रही हैं और इसे सफल बनाने के लिए सरकार मुश्तैद हैं और सब मिलकर इस परीक्षा को सफल बनायेंगे। उन्होंने कहा कि इसे सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरूवार को कई अह्म फैसले लिए जिसमें परीक्षार्थियों के आने जाने की सुविधा के मद्देनजर रोडवेज के साथ साथ निजी बसों में भी उन्हें सफर नि:शुल्क कराने की सुविधा प्रदान की गई हैं और इसके लिए निजी बसों का अधिग्रहण किया गया है।

उन्होंने कहा कि परीक्षा में नकल तथा अन्य अवांछित गतिविधि को रोकने के लिए देश में पहली बार निर्णय लिया गया है कि ऐसी गतिविधि में किसी सरकारी अधिकारी एवं कर्मचारी के लिप्त पाये जाने पर उन्हें बर्खास्त किया जायेगा। अगर निजी स्कूल का मालिक या कार्मिक के भी ऐसी गतिविधियों में शामिल पाये जाने पर उस स्कूल की मान्यता हमेशा के लिए रद्द कर दी जायेगी।

उन्होंने बताया कि परीक्षा को पारदर्शिता के साथ कराने के लिए प्रश्न पत्र की रवानगी से लेकर परीक्षा केन्द्र में प्रश्न पत्र खोले जाने एवं वितरित करने तक की वीडियोग्राफी कराई जायेगी। इसके साथ सभी तरह के पूरे बंदोबस्त किये गये और जहां पुलिस के आवश्यकता के अनुसार पूरे इंतजाम किए गये हैं। नकल रोकने के तहत परीक्षा केन्द्र पर ही अभ्यर्थियों को नये मास्क दिये जायेंगे। इतना ही नहीं परीक्षा के दौरान केन्द्र का निरीक्षण करते समय जिला कलक्टर एवं जिला पुलिस अधीक्षक को भी अपना मोबाइल केन्द्र में ले जाने की अनुमति नहीं होगी।

उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री ने गैर सरकारी एवं धार्मिक संगठनों, भामाशाहों से अपील की हैं कि परीक्षार्थियों की मदद के लिए आगे आये और मैं भी अपील कर रहा हूं कि यथासंभव सहयोग कर सकते हैं, करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसके लिए बहुत से लोग आगे भी आये हैं। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी परीक्षा में थोड़ी बहुत तो असुविधा हो सकती है। इसके मद्देनजर पहले ही अपील की जा चुकी हैं कि परीक्षा के दिन आम लोग जरूरी होने पर ही यात्रा आदि के लिए घर से निकले। फिर भी सरकार का पूरा प्रयास रहेगा कि किसी भी व्यक्ति को दुविधा नहीं हो।

डोटासरा ने बताया कि परीक्षा में लगाये जाने वाली निजी बसों का टोल फ्री रहेगा और इसके लिए निर्देश दे दिए गए। उन्होंने बताया कि निजी बसों को अधिग्रहण करने पर उन्हें किराया का भुगतान सरकार करेगी और वह भी दस दिन के अंदर कर दिया जायेगा ताकि उन्हें किसी तरह की असुविधा का सामना नहीं हो।


Share