तैयार हो गई इम्युनिटी बूस्टर साडिय़ां, नाम है आयुर्वस्त्र

तैयार हो गई इम्युनिटी बूस्टर साडिय़ां
Share

भोपाल (एजेंसी)। यकीन करना थोड़ा मुश्किल जरूर है लेकिन जो चीज सामने है, उससे इंकार कैसे किया जा सकता है! फिलहाल मध्यप्रदेश के दो शहरों भोपाल और इंदौर में लोगों को कुछ इसी तरह का अनुभव हो रहा है, जो उनके लिए अजूबे सरीखा है। इसकी वजह है मध्य प्रदेश का हथकरघा उद्योग, क्योंकि इस उद्योग ने ऐसी साडिय़ों का निर्माण किया है, जो महिलाओं को खूबसूरत दिखाने के साथ ही उनके लिए इम्युनिटी बूस्टर का काम भी करेंगी…
क्या है साडिय़ों की खासियत?

* मध्यप्रदेश हथकरघा एवं हस्तशिल्प निगम ने साड़ी के निर्माण में उस प्राचीन पद्धति का उपयोग करना शुरू किया है, जिसे कपड़े की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए ऋषि-मुनियों के समय में उपयोग किया जाता था। आज के समय में इस तकनीक का उपयोग कपड़ों को डाई करने और कपड़ों का रंग पक्का करने के लिए भी किया जाता है।

* म.प्र. के हथकरघा उद्योग द्वारा तैयार की जा रही इन साडिय़ों के बनाने के लिए हर्बल औषधियों और जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जा रहा है। इस कारण इन साडिय़ों को पहनने पर महिलाओं के शरीर पर फंगल, बैक्टीरियल और वायरल इंफेक्शन नहीं पनप पाएंगे।
किस विधि से बन रही हैं साडिय़ां?

* साडिय़ों को बनाने के लिए सबसे पहले लौंग, बड़ी इलायची, काली मिर्च, कुछ नैचरल हर्ब और अन्य मसालों का मिश्रण तैयार किया जाता है। तैयार पाउडर को सूती कपड़े की पोटली में बांधकर, उसे करीब दो दिन पानी में भिगोकर रखा जाता है।

* इसके बाद इस पानी को बड़ी भट्टी पर खौलाते हुए इसकी भाप में उस कपड़े को कई घंटों तक पकाया जाता है, जिससे साडिय़ां बननी हैं। ताकि कपड़े के बारीक से बारीक रेशे तक भाप के रूप में औषधियों का अर्क पहुंच सके।
क्या होते हैं लाभ?

* इस विधि से तैयार की गई साडिय़ों में स्किन इम्युनिटी बढ़ाने की क्षमता होती है। जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि इस कपड़े से बनी साडिय़ां ऐंटिफंगल, ऐंटिवायरल और ऐंटिबैक्टीरियल मटीरियल के तौर पर बिहेव करती हैं।

* ये साडिय़ां खासतौर पर कोरोना काल के दौर में रोगों से बचाने में सहायक रह सकती हैं। क्योंकि यात्रा के दौरान या किसी से मिलने के दौरान इन साडिय़ों को पहनने से कोरोना वायरस आपकी साड़ी का उपयोग कैरियर के रूप में नहीं कर पाएगा।

* यानी कहीं बाहर जाने के बाद हम जिस डर से घिरे होकर अपने घरों में लौटते हैं और तुरंत अपने कपड़ों को धुलने के लिए रख देते हैं, उस स्थिति में ये साडिय़ां काफी राहत देनेवाली हो सकती हैं।
कब तक रहेगा असर?

* ऐसा बिल्कुल नहीं है कि ये साडिय़ां आपको लाइफ लॉन्ग प्रोटेक्शन देनेवाली हैं। बल्कि वाष्पीकरण की विधि द्वारा ऐंटिपैथोजेन्स हर्ब का अर्क रेशों में पहुंचाकर तैयार की गई इन साडिय़ों में इन औषधियों का असर 4 से 5 धुलाई तक रहता है।

* हालांकि आप इनकी इस क्वालिटी को एक से दो वॉश तक और बढ़ा सकते हैं। यदि आप इन्हें धुलने के लिए माइल्ड और हर्बल डिटर्जेंट का उपयोग करें। इस साडिय़ों की कीमत 3 से 5 हजार रूपए के बीच है। अभी ये साडिय़ां केवल भोपाल और इंदौर में मृगनयनी स्टोर्स पर मिल रही हैं। लेकिन जल्द ही देश के अन्य राज्यों में स्थित म.प्र. के मृगनयनी स्टोर्स पर उपलब्ध होंगी।


Share