टोक्यो पैरालंपिक्स में छा गए राजस्थानी- शूटिंग में जयपुर की अवनि ने जीता स्वर्ण

Share

जयपुर की अवनि लेखरा ने शूटिंग में देश के लिए पहला गोल्ड मेडल दिलाया। अवनि पैरालिंपिक गेम्स में गोल्ड जीतने वाली भारत की पहली महिला एथलीट भी हैं। उन्होंने महिलाओं के 10 मीटर एयर राइफल के फाइनल में 249 पॉइंट स्कोर कर गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

चूरू जिले के जयपुरिया खालसा गांव के देवेंद्र झाझरिया ने टोक्यो पैरालिंपिक गेम्स में भारत को सिल्वर मेडल दिलाया। खेल रत्न से सम्मानित देवेंद्र जेवलिन थ्रो के फाइनल में 64.35 मीटर के थ्रो के साथ दूसरे नंबर पर रहे। उनका यह तीसरा पैरालिंपिक मेडल रहा। इससे पहले देवेंद्र दो गोल्ड मेडल भी जीत चुके हैं। करौली जिले के रहने वाले पैरालंपिक खिलाड़ी सुंदर सिंह गुर्जर ने जापान के टोक्यो में 64.01 मीटर जेवलिन थ्रो कर ब्रॉन्ज मेडल जीता।

राजस्थान सरकार अवनि को 3 करोड़ देगी

राजस्थान सरकार ने टोक्यो पैराङ्क्षलपिक में निशानेबाजी में स्वर्ण पदक जीतने वाली अवनि लेखरा को 3 करोड़, जैवलिन थ्रो में रजत पदक जीतने वाले देवेंद्र झाझडिय़ा को 2 करोड़ तथा कांस्य पदक विजेता सुन्दर ङ्क्षसह गुर्जर को एक करोड़ रूपए का पुरस्कार देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोशल मीडिया पर सोमवार को यह घोषणा की। गहलोत ने कहा कि टोक्यो पैराङ्क्षलपिक में प्रदेश की अवनि लेखरा को स्वर्ण जीतने पर तीन करोड़, देवेंद्र झाझडिय़ा को रजत जीतने पर दो करोड़ तथा सुन्दर ङ्क्षसह गुर्जर को कांस्य पदक जीतने पर एक करोड़ रूपये की राशि इनाम स्वरुप प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि तीनों खिलाडिय़ों को पहले से ही राज्य सरकार के वन विभाग में एसीएफ के पद पर नियुक्ति दी हुई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के खिलाडिय़ों ने पदक जीतकर देश-प्रदेश का नाम रोशन किया है, हमें उन पर बेहद गर्व है।


Share