लाउडस्पीकर पर राज ठाकरे का उद्धव सरकार को अल्टीमेटम – ‘…तो दोगुनी आवाज में चलाएंगे हनुमान चालीसा’

महाराष्ट्र बंद? उद्धव ठाकरे द्वारा आज फैसला सुनाए जाने की संभावना है
Share

औरंगाबाद (एजेंसी)। महाराष्ट्र की राजनीति में सियासी घमासान मचा हुआ है। लाउडस्पीकर की लड़ाई में राज ठाकरे मुखर हो गए हैं। लिहाजा मनसे चीफ आज औरंगाबाद में रैली की। इस दौरान उन्होंने कहा कि मेरी आज की रैली को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे थे। मुझे समझ में नहीं आया कि इतना हंगामा क्यों मचा हुआ है। रैली में राज ठाकरे ने उद्धव ठाकरे पर हमला करते हुए कहा कि मेरी जनसभाओं से सरकार बौखला गई है।

‘4 मई के बाद हम किसी की नहीं सुनेंगे’

इस दौरान उन्होंने लाउडस्पीकर विवाद का भी जिक्र किया। रैली में राज ठाकरे ने कहा कि हमने मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के लिए 3 मई तक के लिए अल्टीमेटम दिया था। लेकिन 3 मई को ईद है। मैं इस उत्सव को खराब करना नहीं चाहता। हम सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह हमारी मांग पूरी करे, नहीं तो 4 मई के बाद हम किसी की नहीं सुनेंगे। मनसे प्रमुख बोले कि अगर हमारी मांग पूरी नहीं हुई तो हम दोगुनी ताकत से हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। हमारे अनुरोध को नहीं समझा गया तो हम अपने तरीके से निपटेंगे।

‘यूपी में लाउडस्पीकर हटाए जा सकते हैं तो यहां क्यों नहीं’

राज ठाकरे ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर मस्जिदों से लाउडस्पीकर नहीं हटाए गए तो हम महाराष्ट्र को अपनी ताकत दिखाएंगे। मस्जिदों के सामने दोगुने लाउडस्पीकर लगाए जाएंगे और फिर हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। साथ ही कहा कि अगर यूपी में लाउडस्पीकर हटाए जा सकते हैं तो महाराष्ट्र में क्यों नहीं। औरंगाबाद संभाजी नगर में 600 मस्जिदें हैं, नियम सबके लिए समान होने चाहिए। मैं दोहराता हूं कि मस्जिदों पर लगे सभी लाउडस्पीकर अवैध हैं।

‘आपने मुद्दा बनाया तो हम भी जवाब देंगे’

राज ठाकरे ने कहा कि लाउड स्पीकर चर्चा का विषय नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इस पर बात न की जाए। महाराष्ट्र में कहीं भी दंगा भड़काने में मेरी कोई दिलचस्पी नहीं है, लेकिन मुसलमानों को ये बात समझने की जरूरत है। यह कोई धार्मिक विषय नहीं है, बल्कि एक सामाजिक मुद्दा है।


Share